Xossip

Go Back Xossip > Mirchi> Stories> Hindi > चुदाई प्रोग्राम....Only Hindi stories

Reply Free Video Chat with Indian Girls
 
Thread Tools Search this Thread
  #51  
Old 29th August 2009
wickedviks's Avatar
wickedviks wickedviks is offline
 
Join Date: 7th November 2006
Location: IN THE BUSH
Posts: 896
Rep Power: 20 Points: 684
wickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accolades
UL: 16.86 gb DL: 39.88 gb Ratio: 0.42
Mai chupchap uske chere ko dekhte hue chunchee maslta raha. Usne apna munh mere munh se bilkul sata diya aur phusphusa kar bolee, "tum aaj mujhe apni rani banalo" asha hath se lund ko nishane par laga kar rasta dikha rahee thee aur rasta milte hi mera lund ek hi dhakke me supara andar chala gaya. Isse pahale ki asha sambhle ya kuch bole, maine dusra dhakka lagaya aur pura ka pura lund makhhan jaise choot ki jannat me dakhil ho gaya. Asha chillaii, "uiiii maa mer gayi iiiiiii iiiii maaaaaa oh vikrant, aise hi kuch der hilna dulna nahee, hi! Bara jaleem hai tumhara lund. Mar hi dala mujhe tumne mere raja. Asha ko kafi dard ho raha tha. Paheli bar jo itna mota aur lumba lund uske bur me ghusa tha. Mai apna lund uski choot me ghusa kar chup chap para tha. Asha ki choot pharak rahee thee aur andar hi andar mere laure ko masal rahee thee. Uski uthi uthi chunchean kafi tezi se upar neeche ho rahe thee. Maine hath barha kar dono chunchee ko pakar liya aur munh me lekar chusne laga. Tab asha ko kuch rahat mili aur usne kamar hilani shuru kar dii.aur mujse boli, "vikrant ab chodna shuru karo mera lund uski choot ko cherta hua pura ka pura andar chala gaya. Phir asha boli, "ab lund ko bahar nikalo, lekin maine mera lund dhire dhire asha ki choot me andar-bahar karne laga. Maine apni speed bara dee aue tezi se lund andar-bahar karne laga. Asha ko puri mastee aa rahee thee aur wo neeche se kamar utha utha kar har shot ka jawab dene lagee. Raseeli chunchee meri chatee par ragarte hue usne gulabee hont mere hont par rakh diye aur mere munh me jeev thel diya.


Choot me mera lund samaye hue tezee se upar neeche ho raha tha. Mujhe lag raha tha ki mai jannat pahunch gaya hun. Jaise jaise wo jharne ke kareeb a rahee thee uski raftar barhti ja rahee thee. Kamre me phach phach ki awaj gunj rahee thee main danadan shot lagaraha tha. Asha ne apni tang ko meri kamar par rakh kar mujhe jakar liya aur jor jor se chutar utha utha kar chudai me sath dene lagee. Mai bhi ab asha ki chunchee ko masalte hue thaka thak shot laga raha tha. Kamara humaree chudai ki awaj se bhara para tha. Asha apni kamar hila kar chutar utha utha kar chuda rahee thee aur bole ja rahee thee, "ahhh aaahhhhh unhhhh ooohhhh oooohhhhh haaaaaan haaaaai meeeere rajjjjja, maaaaaaar gayyyyyye reeeee, lalllllla choooood re choooood. Chodo mujhe. Lelo maza jawanee ka mere rajjjja? Aur apni gand hilane lagee maine lagatar 30 minute tak use choda. Mai bhi bol raha tha, "meriiiii raniiii, leeee mera laura apniiiii okhleeeee meeeee. Baraaaaa tarpayyyyyya hai tuneeee mujheeee. Leeeee meriiiii raniiii yeh lund abbbbb teraaaa hiiii hai. Ahhhhhh uuhhhhhhhh kya jannat ka mazaaaaa diyaaaaaa haiiiiiii tuneeeee. Mai to teraaaaa gulam hoooooo gayaaaaa." Asha gand uchal uchal kar mera lund apnee choot me le rahee thee aur mai bhi pure josh ke sath umkee chuncheon ko masal raha tha. Asha mujhko lalkar kar kahati, lagao shot mere raja? Aur mai jawab deta, "yeh le meri rani le le apni choot me?" jara aur jor se sarkao apna lund meri choot me mere raja? "yeh le meri rani, yeh lund to tere liye hi hai.?" dekho rajjjja meri choot to tere lund ki diwanee ho gayee, aur jor se aur jor se aaaaeeeeeeeee mere rajjjjjjja. Mai gayeeeeeeeeeee reeee? Kahate hue asha ne mujhko kas kar apni bahon me jakar liya aur uski choot ne jwalamukhi ka lava chor diya.

Ab tak mera bhi lund pani chorne wala tha aur mai bola, "mai bhi ayaaaaaa meri jaaaaan? Aur mene bhi apna lund ka pani chor diya aur phir hum logo nai apne apne kapre pahene. Asha ki halat us din bahut kharab thi who chal nahi paa rahi thi us din maine asha ko uske ghar tak chora asha phir teen dino tak office nahi aayi teen din bad jab asha office aayi to who bahut bujhi bujhi si thi who boli ki mere ghar walo ko shak ho gaya hai ki main koi galat kam kar rahi hoo isliye aaj kai bad main tumse nahi choodwaoogi lakin maine kaha agar tum mujse nahi choodwagi to kuch aisa karo ki main jyoti ko chod saku to usne kaha main koshish karoogi aur phir usne apna transfer kisi aur section main karwa diya asha kai bina mera man ab office main nahi lagta tha main hamesha udas raheta tha. Ek sunday march ending kai karan main office main kam ker raha tha to mujhe neelam ka phone aaya ki kiya tum kuch der kai liye mere ghar aa sakte ho mujhe kuch jaroori kam hai mere bahut poochne per bhi usne mujhe kam nahi bataya aur kaha ki tum aaj kabhi bhi time nikal ker please mere ghar jarur ana main sham tak to office main hi kam karta raha sham ko karib panch baje main neelam kai ghar pocha maine neelam kai ghar ki door bell bajai neelam nai aakar darwaja khola mujhe andar hall mai betha ker who kitchen mai chali gayi ghar main aur koi nahi tha neelam nai bataya ki us kai ghar wale us ki cousin kai ghar shadi mai gaye hai thodi der bad who mere liye cold drink lake wapas aayi aur mere pass aakar sofe per beth gayi jab maine neelam sai poocha ki mujhe kiyo bulaya hai to usne kaha ki mujhe accounts main kuch problem hai kiya tum mujhe thori der para sakte ho us kai hath mai accounts ki book thi hum karib 2 ghante tak parte rahe use ku jo bhi accounts main problem thi.

Maine sab clear ker di neelam ko parte waqt mera hath 2-3 bar us kai chuchiyo per touch ho gaya tha lakin maine us taraf diyan nahi diya jab main jane laga to neelam nai mera hath pakar ker mujhe bitha diya aur kaha thori der rook jao bad main chale jana mujhe us ka hath pakarna acha laga maine jab neelam ki taraf dekha to usne ek naughty si smile di. Phir main isse pehle kuch kehta wo mujse satt ker beth sofa per beth gayi tv on kar diya aur hbo channel set kar diya eng movie chal rahi thi. Maine neelam sai pani lane ko kaha.wo mere liye pani leker jab wapisd aayi to wo apni t shirt utar chuki thi uske white bobs ke uper black bra thi . Usne isharo me mujhe apne pass biulaya per maine kaa nahi neelam yeh theek nahi hai usne bola nahi vikrant i love u i want to feel u uske mooh se apna naam sunker main hairaan reh gaya wo boli is din ka main kub se intezar kar rahi thi.

Maine bola nahi tumhare ghar walo ko pata chal jayega wo boli unhe nahi pata chalega wo ghar per nahi hai. Jub main nahi mana to usne kaha vikrant agar tum nahi aaye to main chilayongi ki tum mera rape karne ki koshish ki hai. Main dar gaya phir kuch soch ker main uske paas aa gaya jaise hi maine uski taraf dekha neelam ne mujhe kiss karna suru kardiya mera lund tight ho gaya aur usne mere gale me bahen daal di main use chumne laga usne apni bra utar di umm kya boobs the uske main uske ball choosne laga wo boli aur zorse chooso aaj main doob jana chahti hoon main suck karta houa neeche aa gaya usne apni skirt bhi utar di ab wo sirf panty me thi usne mere kapde utarne shuru kiya aur ek ek button kholte hue mujhe kiss karne lagi. Ab main sirf under wear me tha aur wo panty me usne mera underwear utar ker mera lund nikal liya aur rub karne lagi mera lund hard ho gaya mera lund dekh kar neelam hairan ho gayi mera lund bahut bada aur chouda hai maine jhut se uske baal pakd ke lund uske muh me daal diya mera lund woh tezi se choos rahi thi jaise 1 bacche ko loly pop mil gaya ho so jub wo suck kar rahi thi mujhe jaanat ke maja aa rahe the main aaahhh aaaaaahh uuuuuummmmmmmmmkern e laga todi der baad mera cheeck nikalne wala tha maine neelam se kaha to woh aur jor se choos na suru kar di mujhe laga ki mera chutne wala hai so main bahar nikalne laga per usne kaha nahi mere mooh me hi kardo maine pura cheek uske muh mai hi nikal diaya. Usne saara juice pi liya thoda sa uske lips per gir gaya usne use bhi apni jaban se chat liya mujhe itni satisfaction kabhi bhi life me nahi mil. Maine use bola ki bed room me chalte hai wo jump karker meri gode me aagayi aur usne apni dono taange meri kamar me daal di aur main use suck karta hua room me lejaker bed per patak diya aur usne mujhe ishare se apne paas bulaya. Main uske paas gaya usne kaha aaj main tum se khoob chodwaoongi itni dino se tadpaya hai tumne. Phir wo bed per let gayi aur usne apni taange kholl di bola ki meri pussy lick karo.

Maine jub bola nahi to boli nahi karonge toi main chilayongi usne mera mooh jor se apni pussy me daal diya uske baad maine uski choot chatna suru kiya neelam ki chut ekdam saaf thi maine jaise hi apni jiban uske chut ke dane pe ghumaya woh bin pani ki machli ki tarah tadapne laagi aur chilane lagi aahh aur jor se aur jorse ummmmm mujhe maza aa raha hai main bhi jor se use chusne laga.maine apni ek ungli uski chut mai dal di aur andar baha karne laga saachi uski chut ekdam tight thi jaise hi uske chut ka juice nikla wo madhosh ho ker let gayi mai bhi paas hi let gaya aur uske shareer per hath pherne laga itni der mai mera lund phir khada ho gaya usne dekha to uski aankhon me chamak aa gayi neelam boli aaj mujhe jaanat ka maza de do. Mere chut ke deewane aaj mujhe jee bhar kai chodo maine jaise hi apna lund unki chut mai dalna suru kiya woh tilmila uthi unki chut wakai mai bahut tight thi maine dhere-dhere lund dalna suru kiya toh lund thora sa under chala gaya maine jhut se jordar jhatka mara aur adha lund uski chut mai jaa atka uske muh se jor ki cheek nikli aur chut see khoon maine phir kaha rukh tha mai uske toofan ki tarha chod raha tha uski chut ka pani nikal ke khoon se milgaya phir maine uski taange uper ki aur jor laga ker pura lund under daal diya wo dard se chilayi maine uske mooh per hath rakh diya per pehli baar chudne ke karan use bahot dard ho raha tha usne mere hath per kaat bhi diya per us time to main josh me tha maine usko 30 minutes tak non stop choda mera toh paani hi nahi nikal raha tha mai aur jor jor se chodna suru kardiya woh ahhhh uhhhh vikrant chod mujhe chod haaaaaa uuuhhhhhh chila rahi thi maine fir apna lund nikal ke uski gaand mai dalna suru kiya uski gaand toh ek dam pack thi maine thoda si nivea cream lagaya aur lund dalna suru kiya jaise hi maine apna lund pura ki pura uski gand mai dala neelam ki chut se pisaab nikal gayi aur woh rone lagi mai paagalo ki trha ushe chod raha tha phir dhere dhere main dhakke lagane laga. Ab tuk uska juice nikal aaya tha aur use maza aanae laga wo chila rahi aah aah aur jorse aur jorse ummmm main bhi jor se dhake lagane laga who jhar chuki thi per main jor-jor se fuck karta raha. Akhir mai ek ghante ke baad mera paani nikla is tarh hum ne usdin bahot enjoy kiya uske baad hum eketh nahaye bhi . Bathreoom me maine uske sath ek bar phir ass fuck kiya.

Main jab bathroom sai bahar nikla to maine dekha ki samne jyoti khari hai mere to hosh hi ure gaye kiyoki us samay neelam aur main bilkul nange the is sai pehle ki jyoti kuch bolti main jyoti ko pakar ker room mai le gaya waha jakar mene sab se pehle uske kapde utarna shuru kiye, uske chuchiya dekh kar to mere hosh hi gum hogay bahar se khuch or andar se kuch or mai to bas unhe dekhty hi pagal ho gaya or zor zor se unhe dabane laga vo siskirya bharti rahi. Usne kaha nahi plz esa kuch mat karo mujhe jane do, magar mai samjh gaya ki ab ye nakhre kar rahi hai, per mai kaha rukta jese hi vo bolti mai uske lips ko choomne lagta phir vo josh mai aa jati to phir mai apna kaam shuru kar deta, ab mai aur wo bilkul nange the ekdosre ke samne, usne mera lund dekha to soch me pad gaii, kehne lagi oo daiyya itna bada lund hai aapka mai to mar hi jaaongi, mene kaha pehle pehle dard hoga lekin phir baad mai maza aane lagega, ab main jyoti ko bed per lita diya aur main uski jangh par baith gaya. Maine jaise hi uski chut ko dekha muje kuchh der tak viswas hi nahi hua ki itni sundar bhi kishi ki chut ho sakti hai maine ab der karna uchit nahi samajha aur pehle to ungali karne laga ki jisse ki vo garam ho jaay or lund magne lage. Achanak mene ungali karne ki raftaar kuch bada di vo bilkul bin pani ki machali ki taraha tadap rahi thi phir achanak mere nazr paas mai rakhe hair oil per padi mene botal mai se oil liya or pehle to uski choot per lagaya or mai uski choot mai apne lund milake pehle to maine halka sa jhatka mara to vo chilla uthi oiiiii maaa margai aaaaaaaa oooooooooo aram se plz who ek ajib si awaj nikal rahi thi.

Maine jaise hi lund ko chud me daalne ke liye puss kiya unka haanth chud ko failane ke liye pahuch gaye mene ruk gay or phir uske lips ko choomne laga, kuch deer ruk kar phir se mene 1 jhatka diya kuch inch to andar ghusa lekin use kafi dard ho raha tha, to mai wahi ruk gaya lund ko uski choot mai kuch deer ke liye rok diya kuch deer rukne ke baad mene phir se 1 jhatka diya to uske muh se aaaaaaahhhhhhhhhhhh hhhhhhhhhhh ki awaaj nikal gayi. Maine apne lund ke agle hinse ko uske chud ke andar paya. Ab uske dono pairo ko thoda sa faila diya. Maine uske dono chuchio ko apne muh me bari bari se lekar chusne laga. Ab usne apne dono baju ko mere pith par ragarna suru kar diya. Maine dhire dhire apne lund ko uske chud me dalne ke liye jor jor se jhatke marne laga. Mera adha land uske choot mai ghus gaya ab maine 1 zor ka dhakka diya vo zor se chillaii aaaaaaaaiiiiiiiiii mar gai maaaaaaaaaaaa ooooooooooo mardala aapne mene kaha abhi tumhe maza aane lagega mujhse nahi ruka gaya ab maine speed ko thoda aur badhane ke liye socha. Maine apne lund ko thoda sa bahar khicha aur jor ka jhatka mara to wo buri tarah se kaap uthi aur chilate hue aaaaaaaaahhhhhhhhna aaaaaaa iaaaaaaaaaaaaaaaaa ki awaj nikali aur apne hanth se mere lund ko nikalne ke liye kosis ker rahi thi maine unke hanth ko khich liya. Aur kamar ko hilana jari rakha. Kuchh der ke baad wo saant ho gayi. Ab mera hausala aur badha maine ek jor ka jhatka mara to unki halat bilkul hi bardast se bahar ho gayi. Wo boli plz nikaaaaaaallll doaaaaaaaaahhhhhhhh hhh naaaaaahiihhhaaaaa uaaaaaaaaaaaaa haaaaaaaaaaaaaaaaaa aa maine apne pure lund ko uske chud me daal chuka tha. Ab maine uske hoto ko chusna suru kar diya aur dono hantheliyo me uske dono boobs ko pakad ke masalna suru kar diya.

Phir kuch der mai use bhi maza ane laga lekin mera lund kuch ziyada hi bada tha lekin ab mai nahi ruk sakta tha mujhe kisi ki parwa nahi thi mai zor zor se dkhakke marne laga vo chillari rahi baar baar bolti rahi plz ruko mujhe dard ho raha hai plz ruko magar mai nahi ruka phir vo bhi khamosh ho gaii ab use bhi maza ane laga tha, or vo mujhe kamar utha utha ke reply bhi karne lagi vo poori tarha se mera lund le rahi thi mai apni pori taqat se dhakke mar raha tha bas vo to apne akhe band karke aaaaaah uhhhhhhhh ieeeeeee uffff kare ja rahi thi mai baar baar uske lips ke chumta rehta, uske lips kuch ziyada hi narm thy baar baar mai unke pepsi samjhkar peeta rehta tha bilkul laat thy lips mene choom choom ke surkh laaal kar diye. Wo bhi ab saant hone lagi. Phir maine socha kio na filmi andaaz mai eski choot mari jaay phir mene uske ghodi banaya or uski chooot mai peeche se apna land jab dala to bas uski haalat to esi hogai se abhi mar jaaygi kio ki lund ka size kuch ziyada hi bada tha or uski kuwari choot thi to bardasht karna kuch ziyada mushkil tha, lekin bandi esi thi ab kuch bhi nahi bol rahi thi, mene usek ghodi ke position mai uski kamar ko pakad ke dhakke dena shuru kiye uski kamar pe meri pakad kuch mast thi esliye dhakke dene mai kuch ziyada hi maza aa raha tha mai jab tak dhakke de taha tha mene socha ab kisi or pose mai choot mari jaaye phir mai bed per let gaya or lunda ko seedha kiya or usse kaha ki ab tum mere lund per betho vo aaram aaram se uthi or jesa mene kaha tha wesa hi karne lagi.

Mujhe pata tha es pose mai choot marne ka maza hi kuch or hoga es pose mai ladki ki jaan nikal jaati hai jab poora lund andar jata hai, pehle to vo mere lund per aaraam se beeth gai or mera poora lund andar le gai phir kuch deer ruki rahi phir achanak khud hi dhakke dene lagi mujhe or maza aane laga or mai neeche se bhi dhakke dene laga vo bhi dkakke de rahi thi or mai bhi, phir mujhe laga ki mai jhadne wala hoo mene uski geeli choot mai or or or zor zor se dhakke dena shoru kar diy jese hi mai jhadne wala tha mene use pakad ke lita diya or uske oper chad ke beath gaya or uski choochiyo ke oper jhad diya, or thak ke usk barabar mai let gaya phir usne apne breast ko kapde se saaf kiya or mere hi barabar mai let gai. Kuchh der tak uske sath lete rahne ke baad main uth ke baith gaya aur jab maine chut ko haanth se chhua to dekha ki wo kafi suj gayi thi main buri tarah se thak gaya tha. Iske chalte mujhe nind arhani thi. Mai wahi uske bagal me so gaya. Hum 30 min tak aaraam se lete rahe phir mai utha or phir se uske lips ko chumne laga kafi der tak chumne ke baad mai hat gaya or phir mene kapde pehnne shuru kiye time kafi ho raha tha vo bhi jaldi se apne kapde pehnne lagi, neelam yeh sab bahar khadi ho kar dekh rahi thi ab hum sab log baher sofe per aaker beth gaye the tab neelam aur jyoti nai bataya ki jab sai asha nai use humari chudai ki bat batai thi tab sai who dono mujse chudwana chaiti thi.
______________________________
AAG, PAANI, HAWAA, AUR THARAK APNA RASTA KHUD KHOJ LETE HAIN

Reply With Quote
  #52  
Old 30th August 2009
jugagr jugagr is offline
 
Join Date: 15th March 2008
Posts: 111
Rep Power: 16 Points: 136
jugagr is beginning to get noticed
Superb.

Reply With Quote
  #53  
Old 1st September 2009
wickedviks's Avatar
wickedviks wickedviks is offline
 
Join Date: 7th November 2006
Location: IN THE BUSH
Posts: 896
Rep Power: 20 Points: 684
wickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accolades
UL: 16.86 gb DL: 39.88 gb Ratio: 0.42
Quote:
Originally Posted by jugagr View Post
Superb.
thanx bhai!
______________________________
AAG, PAANI, HAWAA, AUR THARAK APNA RASTA KHUD KHOJ LETE HAIN

Reply With Quote
  #54  
Old 22nd September 2009
wickedviks's Avatar
wickedviks wickedviks is offline
 
Join Date: 7th November 2006
Location: IN THE BUSH
Posts: 896
Rep Power: 20 Points: 684
wickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accolades
UL: 16.86 gb DL: 39.88 gb Ratio: 0.42
मैं उस समय कॉलेज में पढ़ती थी। मेरा एक बॉय-फ़्रेंड था सुधीर, जो मेरा क्लासमेट था। मेरे और उसके बीच सम्बंध तीन महीने से था। सुधीर एक छ्ह फ़ुट का खूबसूरत लड़का था। साफ़, गोरा रंग पर पढ़ने में कोई खास नहीं था, एक औसत विद्यार्थी था।

मैं अपनी स्कूटी से कॉलेज जा रही थी, तभी सुधीर ने आवाज लगाई,"कामिनी.... एक मिनट........ !"

मैंने पलट कर देखा तो सुधीर दूर पान की दुकान पर कुछ लड़कों के साथ खड़ा था, जो पहनावे से ठीक नहीं लग रहे थे। सुधीर भागता हुआ आया

"सुनो .... आज तो मैं कॉलेज नहीं जाउंगा.... पर कल सुबह जरूर मिलना....!"

"क्यों....कल क्या है?.... और ये लड़के कौन हैं जो तुम्हारे साथ हैं....?"

"परसों मेरी बहन और मां आ रही हैं.... कल घर में कोई नहीं है.... गप्पे मारेंगे .... फिर परसों के बाद कोई चांस नहीं है....!"

"सच.... तो कल कॉलेज.... गोल....!! " मैंने अपनी स्कूटी आगे बढ़ा दी....वो वापिस अपने दोस्तों में चला गया। उसका घर यहां से पास ही था। मैं खुश हो गई, काफ़ी दिनो बाद सुधीर ने अपने घर आने को कहा था। मैं कॉलेज में भी और फिर घर पर भी अपने और सुधीर के बारे में सोचती रही। मुझे यह सोचना बड़ा अच्छा लग रहा था कि हम अकेले में क्या क्या बातें करेंगे। कहीं अकेले में वो मुझे छेड़ेगा तो नहीं.... क्या करेगा .... और मैं उसके साथ प्यार कैसे करूंगी.... सोचते हुए ही रोंग़टे खड़े हो रहे थे....।

दूसरे दिन सुधीर उसी पान वाले की दुकान के सामने मिल गया.... वही अपने कुछ अजीब से दोस्तों के साथ। मुझे देख कर वो भागता हुआ आया और मेरी स्कूटी पर बैठ गया।

"पीछे मुड़ो और सामने वाला घर मैंने किराये पर ले रखा है....!"

मैं उस घर में एक बार पहले भी आ चुकी थी। पर उस समय उसकी मां और बहन भी थी। मैंने अन्दर स्कूटी रखी इतनी देर में सुधीर ने घर का ताला खोल दिया। अब हम दोनों घर के अन्दर थे। अन्दर आते ही उसने मुझे चूतड़ों के नीचे से हाथ का ग्रिप बना कर ऊपर उठा लिया। उसके मुँह से बीड़ी की या कुछ और चीज़ की दुर्गंध आई।

" छि: छि: अपना मुँह धो कर आओ....बल्कि ब्रश भी करो....!"

उसे मेरा कहना अच्छा नहीं लगा....पर उसने ब्रश करके मुह को साफ़ कर लिया।

"बस अब तो ठीक है ना....!" मुस्करा कर उसने अपनी बाहें फ़ैला दी। मैं उसके पास जाकर उससे लिपट गई।

"हां....अब देखो कितने अच्छे लग रहे हो...." मैंने उसे चूम लिया। एकबारगी मुझे लगा कि सुधीर कोई नशा किये हुए है। उसकी आंखो में मुझे वासना के डोरे तैरते नजर आये। मुझ पर भी धीरे धीरे वासना क रंग चढ़ने लगा। हम एक दूसरे को बुरी तरह चूमने लगे। वो मेरे अंगों को दबाने लगा। मेरी चूंचियाँ कड़ी हो गई। मैं मदहोश होने लगी। मेरी चूत गीली होने लगी थी।

"कामिनी.... आज कुछ करें.... मेरा मन बहक रहा है....!"

"मेरे राजा.... मेरा मन भी बहक रहा है.... कुछ करो ना...."

सुधीर ने अपना हाथ मेरी टॉप के अन्दर डाल दिया और मेरी चूंचियाँ दबा दी। उसका लण्ड भी मुझे चोदने के लिये उतावला हो रहा था। उसके कड़े लण्ड को मैंने अपने अपने हाथ में भींच लिया। उसके मुख से आह निकल गई। मैं भी बेकाबू होती जा रही थी।

"....ये पैण्ट तो उतारो.... बड़ा तड़प रहा है बेचारा........!"

सुधीर ने अपना पैंट उतार दिया....फिर कमीज और बनियान भी उतार दिया। इतनी देर में मैंने भी अपनी जीन्स उतार दी और टॉप भी उतार दिया। अब हम दोनों बिल्कुल नंगे खड़े थे। उसका शरीर देख कर मैं उत्तेजित हो उठी। खास करके उसका कठोर और तन्नाया हुआ लण्ड देख कर मेरी चूत फ़ड़क उठी। उसके लण्ड को पकड़ कर सुपाड़े की चमड़ी मैंने ऊपर खींच दी। उसका लाल सुपाड़ा चमक उठा। उसने अपने बिस्तर पर मुझे बैठा दिया.... फिर हम दोनों किस करते हुए बिस्तर की चौड़ाई पर लेट गये। मेरे मन में आनन्द की हिलौरे आने लगी, मैं मन ही मन में चुदाई के लिये बेताब हो उठी... मेरे दोनों पांव नीचे ही थे। सुधीर ने नीचे खड़े हो कर ही अपना लंड मेरी चूत पर रख दिया। मैंने अपनी चूत थोड़ी सी फ़ैला दी। उसने अपना लण्ड मेरी चूत पर रख दिया और हौले से अन्दर घुसा दिया। मैं आनन्द से भर गई। उसने अब एक ही धक्के में पूरा लण्ड अन्दर घुसा डाला। मुझे थोड़ी सी तकलीफ़ हुई.... पर सहन कर गई।

"सुधीर.... धीरे धीरे डालो ना....!"

पर वो अब कहां सुनने वाला था। उसने तो एकदम से ही तेज धक्के चालू कर दिये। मुझे अब तो वास्तव में लगा कि वो नशे में है....उसके मुख से अब कुछ तेज गन्ध आने लगी थी। जो मेरे आनन्द को रोक रहा था। उसकी आँखों में लाल डोरे बढ़ गये थे। जाने मुझे आज मजा नहीं आ रहा था। उसके चोदने में नरमाई बिलकुल नहीं थी.... मुझे तकलीफ़ भी हो रही थी.... । ऐसा लगा कि ना जाने क्यों आज सुधीर बहुत अधीर था और शायद जल्दी में नजर आ रहा था....

"सुधीर.... रुको.... कोई चिकनाई लगा लो....!"

पर उसकी सांस फूलने लगी थी....शायद वो थक गया था। अचानक ही उसका वीर्य छूट पड़ा। और उसने मेरी चूत के अन्दर ही वीर्य छोड़ दिया।
______________________________
AAG, PAANI, HAWAA, AUR THARAK APNA RASTA KHUD KHOJ LETE HAIN

Reply With Quote
  #55  
Old 22nd September 2009
wickedviks's Avatar
wickedviks wickedviks is offline
 
Join Date: 7th November 2006
Location: IN THE BUSH
Posts: 896
Rep Power: 20 Points: 684
wickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accolades
UL: 16.86 gb DL: 39.88 gb Ratio: 0.42
सुधीर जैसे ही हटा मुझे अचानक ही एक चेहरा और दिखा.... वो भी नंगा खड़ा था और उसका लण्ड भी तन्ना रहा था। उसने एकदम से मुझे जकड़ लिया। मेरी समझ में कुछ आता उसके पहले उसने मुझे जकड़ लिया।

मैं अपने शरीर को झटके दे कर छुड़ाने की कोशिश करने लगी। पर ये प्रयास बेकार साबित हुआ। ना जाने वो कमरे में कब आया और उसने अपने खुद के कपड़े कब उतार लिये, मुझे पता ही नहीं चला। मैं तो सुधीर की चुदाई का आनन्द ले रही थी, मेरी तो आंखे बन्द थी.... ये कब आ गया .... तभी उसका लण्ड मेरी चूत में घुसता सा लगा.... उसका लण्ड बहुत मोटा था.... झटके से उसने जोर का धक्का मारा और उसका लण्ड मेरी चूत में घुस गया। उसका लण्ड मोटा और खुरदरा था। मेरी तंग चूत में उसका लण्ड रगड़ता हुआ गहराई तक बैठ गया। मुझे तेज दर्द हुआ, मेरे मुख से चीख निकल गई। उसी समय सुधीर ने मेरे दोनों हाथ कस कर पकड़ लिये.... मुझे कुछ समझ में नहीं आया....सब कुछ बुरे सपने जैसा लग रहा था।



कामिनी की इस घटना को दो दिन बीत गये थे। इन दो दिनों में मैं सुधीर से दो बार मिल चुका था। कामिनी के कारण उससे मेरी भी दोस्ती थी। मैंने उसे यह नहीं मालूम होने दिया कि कामिनी की चुदाई के बारे में मुझे मालूम है। आज सवेरे ही मैंने सुधीर के घर जाने की योजना बनाई। इस बारे में मैंने नेहा को बता दिया था कि सुधीर की मां और बहन आई हुई हैं, उनसे मिलने जा रहा हूँ।

मैं कॉलेज जाने से पहले उसके घर चला गया। बाहर बरामदे में एक सुन्दर सी लड़की झाड़ू लगा रही थी। मैंने अन्दाज़ा लगाया कि यह सु्धीर की बहन होगी। जैसे ही मैं फ़ाटक के अन्दर घुसा .... उसने मेरी तरफ़ देखा और देखती ही रह गई।

मैंने उसे नमस्ते किया तो वो कुछ नहीं बोली। मैं सामान्यतया मुस्कुराता रहता हूँ,"मैं सुधीर का दोस्त हूँ .... "

"जी .... आईये .... " वो कुछ शरमाती सी बोली। मुझे वो अन्दर ले गई और कहा - "आप बैठिये .... मैं पानी लाती हूँ।"

"आप उसकी बहन है ना ...." मैंने मुस्कराहट बिखेरते हुए कहा।

वो एकदम से शरमा गई .... और मुझे तिरछी निगाहों से देखती हुई अन्दर चली गई। उसकी पतली छरहरी काया और उसके उभार और कटाव भरे पूरे थे। किसी को भी अपनी ओर आकर्षित कर सकते थे। वो पानी ले कर आ गई।

"आपका नाम जान सकता हूँ ....?"

उसका अन्दाज़ कुछ अलग सा था। मुझे लगा कि वो उमर में सुधीर से बड़ी है।

इतने में एक मधुर अवाज और आई,"ये मेरी मम्मी है .... मै सुधीर की बहन हूँ .... दिव्या ....!"

मैं बुरी तरह से चौंक गया .... ये कैसे हो सकता है? "जी ....माफ़ करना .... आप तो इतनी छोटी लगती है कि .... मैं तो समझा कि ....!"

"आप ठीक कह रहे हैं .... मेरी कम उम्र में ही शादी हो गई थी .... फिर ये भी एक एक्सीडेन्ट में गुजर गये थे ...." (उसका मुझे घूरना बन्द नहीं हुआ।) वो एकटक मुझे देखे जा रही थी।

"ओह!!! .... माफ़ करना .... यह सुन कर दुख हुआ .... पर आप तो दिखने में किसी लड़की जैसी ही लगती हैं ...." वो फिर से शरमा गई ....

"आप चाय पीजिये .... इतने में सुधीर आ जायेगा ....!" उसके हाव भाव ये बता रहे थे कि मैं उसे अच्छा लग रहा हूँ .... मैंने सोचा कि और आगे बढ़ा जाये !

"आप अभी ही इतनी सुन्दर लग रही हैं तो जब बाहर जाती होगी तो और भी अच्छी लगती होंगी ....!" उसका चेहरा लाल हो उठा। बिल्कुल किसी कुंवारी लड़की की तरह वह अदाएँ दिखा रही थी। फिर से उसने मुस्कराते हुए मुझे देखा .... मेरी हिम्मत बढ़ने लगी। वो सामने किचन में चली गई। मैं भी उसके पीछे पीछे किचन में आ गया।

मैंने हिम्मत करके उसकी कमर पर हाथ रखा। उसने तुरन्त ही पलट कर मुझे देखा और बोली- "यह क्या कर रहे रहे हो ...."

"सॉरी मैं अपने आपको रोक नहीं पाया, क्योंकि आप में गजब का आकर्षण है !"

वो मुस्करा दी। मेरी हिम्मत और बढ़ गई।

"आप बहुत खूबसूरत हैं .... " उसके चेहरे पर पसीन छ्लक आया।

"आप भी तो हैं .... हाय" उसके मुँह से निकल पड़ा। मेरे हाथ उसकी चिकनी कमर पर फ़िसलने लगे। उसका शरीर कांप उठा, वो लरजने लगी और झूठ में ही मेरे से दूर होने की कोशिश करने लगी।

"जी ....चाय ...." उसका चेहरा तमतमा रहा था ....हम चाय ले कर फिर से बैठक में आ गये ...."आपका नाम क्या है ....?"

"मेरा नाम जो हन्टर है ....और आपका ....?"

"जी ....म....मैं सरोज ...." वो हिचकती हुई सी बोली .... "आप दिव्या को रोज पढ़ाने आयेंगे ना .... ऐसा सुधीर कह रहा था ....!" मैं सकपका गया। क्योंकि पढ़ाने की बात मुझे नहीं पता थी।

"मै आपको सरोज ही कहूँगा .... क्योंकि आपको आण्टी कहना आपके साथ ज्यादती होगी !" सुनते ही उसने अपना चेहरा हाथों में छुपा लिया।
______________________________
AAG, PAANI, HAWAA, AUR THARAK APNA RASTA KHUD KHOJ LETE HAIN

Reply With Quote
  #56  
Old 22nd September 2009
wickedviks's Avatar
wickedviks wickedviks is offline
 
Join Date: 7th November 2006
Location: IN THE BUSH
Posts: 896
Rep Power: 20 Points: 684
wickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accolades
UL: 16.86 gb DL: 39.88 gb Ratio: 0.42
"पर वो दिव्या ....?"

"हां .... हां मैं आ जाऊंगा ....उसे भी पढ़ा दूंगा" मैंने मौके को हाथ से गंवाना उचित नहीं समझा। मैंने चाय समाप्त की और खड़ा हो गया। वो भी खड़ी हो गई और मेरे समीप आ गई। मैंने इधर उधर देखा कि कोई नहीं है तो मैंने सरोज का हाथ पकड़ लिया। वो खुद ही धीरे से मेरे सीने से लग गई। मैंने उसे लिपटाते हुए अपनी बाहों में कस लिया। उसने अपना चेहरा ऊपर उठा लिया और अपनी आंखे बन्द कर ली। मुझे कुछ समझ में नहीं आया पर मेरे शरीर में तरावट आने लगी थी, वासना जागने लगी थी। स्वत: ही मेरे होंठ आप ही उसके होंठो की ओर बढ़ गये। कुछ ही देर में हम दोनों एक दूसरे के होंठ चूस रहे थे। मैंने अब उसके उरोजो को थाम लिया। वो कसक उठी।

"हाय .... मत करो .... सीऽऽऽ .... हाय रे" उसके मुख से सिसकारी निकल पड़ी। मैंने धीरे धीरे उसके स्तन दबाने और मसलने चालू कर दिये। उसकी बाहों का कसाव और बढ़ चला था। अब मैंने एक हाथ से उसके चूतड़ दबाने शुरू कर दिये थे। अब उसका भी एक हाथ मेरे लण्ड पर आ चुका था और कस कर पकड़ लिया था।

"हाय .... छोड़ दो ना .... आऽऽऽऽह .... क्या कर रहे हो ....?" इन्कार में इकरार था ....मेरा लण्ड उसने कस के पकड़ रखा था। कह तो रही थी छोड़ने को और बेतहाशा लिपटी जा रही थी। बाहर फ़ाटक की आवाज आई तो वो मेरे से छिटक के दूर हो गई ....

"कल सवेरे नौ बजे आना .... मैं इन्तज़ार करुंगी ....!" इतने में दिव्या अन्दर आ गई। एकबारगी तो वो ठिठक गई .... शायद उसने माहौल भांप लिया था। मैंने अब दिव्या को निहारा। वो एक जवान लड़की थी .... जीन्स पहने थी .... अपनी मां की तरह चुलबुली थी .... तो इसे पढ़ाना है .... लगा कि मेरी तो किस्मत अपने आप ही मेहरबान हो गई है .... आया था कि इन पर इम्प्रेशन जमा कर पटाऊंगा। पर यहां तो सभी कुछ अपने आप हो रहा था। मैं मुस्करा कर बाहर आ गया।

अगले दिन सवेरे नौ बजे मै सुधीर के यहाँ पहुंच गया। सुधीर कहीं जाने की तैयारी कर रहा था।

"थेंक्स यार .... तुमने दिव्या को पढ़ाने के लिये हां कर दी .... मैं जरा हेप्पी से मिलने यहीं पान की दुकान तक जा रहा हूँ ...." कह कर वो चला गया।

दिव्या मेज़ पर बैठी पढ़ाई कर रही थी। मुझे देखते ही उसने अपने पास ही एक कुर्सी और लगा दी।

अन्दर से सरोज ने मुझे देखा और शरमाती हुई मुस्करा दी .... दिव्या ने फिर से एक बार इस बात को देख लिया। मैं कुछ देर तक तो पढ़ाता रहा .... फिर मुझे महसूस हुआ कि उसका ध्यान पढ़ाई पर नहीं मेरी ओर था।

"मुझे मत देखो .... .... इधर ध्यान लगाओ ...." पर दिव्या ने सीधे वार करते हुए मेरी जांघ पर हाथ रख दिया ।

"आपने कल मम्मी को किस किया था ना ...." वो फ़ुसफ़ुसाई, मैं बुरी तरह से चौंक गया।

"क्या ??? ....क्या कहा ...." मैं हड़बड़ा गया.

"मम्मी ने मुझे बताया था .... मैं और मम्मी सब बातें एक दूसरे को बताती है .... मुझे भी किस करो ना ...." मुझे एक बार तो समझ में नहीं आया कि ऐसे मौके पर क्या करना चाहिये......उसके हाथ मेरे लण्ड की तरफ़ बढ रहे थे। मेरे शरीर में सनसनी फ़ैल रही थी। अचानक वो मेरे से लिपट पड़ी। दरवाजे से सरोज सब देख रही थी। मेरी नजर ज्योंही दरवाजे पर पड़ी सरोज ने अपनी एक आंख दबा कर मुस्करा दी। मैंने इसमें उसकी स्वीकृति को समझा और दिव्या का कुंवारा शरीर मेरी आगोश में आ गया।
______________________________
AAG, PAANI, HAWAA, AUR THARAK APNA RASTA KHUD KHOJ LETE HAIN

Last edited by wickedviks : 22nd September 2009 at 11:46 PM.

Reply With Quote
  #57  
Old 22nd September 2009
wickedviks's Avatar
wickedviks wickedviks is offline
 
Join Date: 7th November 2006
Location: IN THE BUSH
Posts: 896
Rep Power: 20 Points: 684
wickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accolades
UL: 16.86 gb DL: 39.88 gb Ratio: 0.42
उसकी उभरती जवानी पर मेरे हाथ फ़िसलने लगे। वो बेतहाशा अब मुझे चूमने लगी। मेरा हाथ उसकी स्कर्ट में घुस पड़ा। उसकी चूत गीली हो चुकी थी। मैंने उसकी पेन्टी में हाथ डाल कर उसकी चूत दबा दी। जवाब में उसने भी मेरा लण्ड दबा दिया। सरोज ने अन्दर से इशारा किया तो मैंने उसे छोड़ दिया। दिव्या लगभग हांफ़ते हुए अलग हो गई। उसकी आंखो में वासना के लाल डोरे लगे खिंच चुके थे। सरोज चाय बना कर ले आई।

"दिव्या ....कॉलेज में देर हो जायेगी .... तैयार हो जाओ ...." सरोज ने दिव्या को आंख मारते हुए कहा। दिव्या मुस्कराते हुए उठी और लहरा कर चल दी। वो समझ चुकी थी कि मम्मी अब गरम हो चुकी है अब उन्हें चुदाई चाहिये। मैंने चाय समाप्त की और प्याला मेज़ पर रख दिया।

"सरोज .... जरा सा और पास आ जाओ ...." मैंने आज मौके का भरपूर फ़ायदा उठाने की सोचते हुए अपनी मनमोहक मुस्कराहट बिखेर दी। उसकी आंखें झुक गई। पर उठ कर चुप से मेरी गोदी में बैठ गई। जैसे ही वो मेरी जांघो पर बैठी उसके चूतड़ो का स्पर्श हुआ। वो अन्दर पेन्टी नहीं पहने थी। उसके लचकदार चूतड़ का स्पर्श पा कर मेरा लण्ड फ़ुफ़कार उठा। हम दोनों अब एक दूसरे को चूम रहे थे। मेरा हाथ जैसे ही उसके बोबे पर पड़ा .... उसके बोबे बाहर छलक पड़े। उसके ब्रा भी नहीं पहनी थी ....यानि चुदने के लिये वो बिल्कुल तैयार थी। मेरा लण्ड उसके चूतड़ों पर लगने लगा था। कुछ ही देर में वो बैचेन हो उठी ....

"सुनो जी .... अब देरी किस बात की है ...."कह कर वो बुरी तरह लाल हो गई। मैं उसकी इस अदा पर मर गया .... मैंने उसे गोदी में से उतार कर खड़ा कर दिया और अपनी पेन्ट उतार दी .... वो शरम से सिमटी जा रही थी .... पर उसने बिस्तर पर आने की देर नहीं की। उसके मन की हलचल मैं समझ रहा था ....लगता था बरसों की प्यासी है ....।

मेरा लण्ड देखते ही वो मचल उठी। उसने मेरा लण्ड अपने हाथो में ले लिया और पकड़ कर दबाने लगी .... लण्ड की चमड़ी ऊपर नीचे करने लगी, इसके कारण मेरा सुपाडा रगड़ खाने लगा ....मुझे तेज मजा आया ....मीठी मीठी सी गुदगुदी उठने लगी । उसने मेरी तरफ़ देखा .... मैं उसे प्यार से देख रहा था ....

"हाय रे ....मेरी तरफ़ मत देखो ना .... उधर देखो ...." और शरमाते हुए मेरे सुपाड़े को अपने मुँह में भर लिया। दोनों हाथो से मेरे चूतड़ भींच लिये और पूरा लण्ड मुँह में भर कर अन्दर बाहर करने लगी। सुपाड़ा जोर से चूस रही थी ....एक तरह से अपने मुँह को चोद रही थी। मेरे मुख से आह निकल रही थी .... कुछ देर तक यही सिलसिला चलता रहा।

उसने फिर कहा-"सुनो जी ....अब देर किस बात की है .... " फिर से एक बार शरमा गई और फिर वो कहने लगी, "तुम्हे देखते ही मुझे लगा कि तुम मेरे लिये ही बने हो ....तुम्हारे में गजब की कशिश है !"

"सरोज तुम बहुत सेक्सी हो .... देखो मुझे कैसे बस में कर लिया ...."

"मैं बहुत महीनों से प्यासी हूँ ....और मेरी बेटी .... उसकी नजरें भी भटकने लगी थी .... मैंने उसे रंगे हाथो पकड़ लिया था .... तब से मैंने उसे अपना राजदार बना लिया और अब हम सही लड़का देख कर दोनों ही अपनी प्यास शान्त करती हैं ...."

मुझे उसकी बातों से कोई सरोकार नहीं था .... मुझे तो एक बदले दो दो चूत बिना मांगे ही मिल रही थी।

वो कहती जा रही थी ...."सुधीर से मैं परेशान रहती हूँ ! वो जाने क्या करता है? जाने कहां से नशे की चीज़े लाता है और बेचता है .... हमारे मना करने पर वो हम दोनों को पीटता है ....।"

सरोज की सारी बातें मैं ध्यान में रख रहा था पर उसे यही दर्शा रहा था कि मैं सेक्स में ही रुचि ले रहा हूँ।

"बस सरोज अब चुप हो जाओ, मैं अब से तुम्हारे साथ हूँ .... मजे लो अब ....मेरा देखो न कितना बुरा हाल है ...." मैंने उसकी चूत पर अपना तन्नाया हुआ लण्ड का दबाव देते हुए कहा। उसका शरीर वासना से कसक रहा था। उसकी तड़प मुझे महसूस हो रही थी। मैंने उसके बोबे दाबते हुए नीचे जोर लगाया .... लण्ड चूत में उतरता चला गया। उसकी कसी हुई चूत मेरे लण्ड के चारों ओर मीठा सा घर्षण दे रही थी। उसने अपनी चूत को और ऊपर की ओर उभार ली। मेरा लण्ड अभी भी थोड़ा बाहर था। उसके मुख से सिसकारी निकलती जा रही थी। मुझे लगा कि मेरा लण्ड उसकी चूत की पूरी गहराई में घुस चुका था। पर लण्ड अभी भी बाहर था।

"अब धीरे से बाहर निकाल कर अन्दर और दबाओ ...." उसने सिसकते हुए कहा।
______________________________
AAG, PAANI, HAWAA, AUR THARAK APNA RASTA KHUD KHOJ LETE HAIN

Reply With Quote
  #58  
Old 22nd September 2009
wickedviks's Avatar
wickedviks wickedviks is offline
 
Join Date: 7th November 2006
Location: IN THE BUSH
Posts: 896
Rep Power: 20 Points: 684
wickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accolades
UL: 16.86 gb DL: 39.88 gb Ratio: 0.42
मैंने अपना लण्ड थोड़ा सा बाहर निकाला और अन्दर और दबा दिया। उसे हल्का स दर्द हुआ .... फिर भी बोली,"ऐसा और करो ...."

"पर आपको दर्द हो रहा है ना ....?"

इसी दर्द में तो मजा है ....पूरा घुसेगा तो ही शान्ति मिलेगी ना ....!" उसने दर्द झेलते हुए कहा।

मैंने फिर से लण्ड दबाया .... पर इस बार झटके से पूरा डाल दिया। उसके मुख से हल्की सी चीख निकल गई।

"हाय रे ....! मर गई ....! ये हुई ना मर्दो वाली बात .... ! बस अब थोड़ा रुको ....!" वो अपने स्टाईल में बताते हुए चुदवाने लगी।

उसने कहा,"अब मेरी चूतड़ के नीचे तकिया रख दो .... फिर बस एक धक्का और ...."

"देखो बहुत दर्द होगा ...."

"आज होने दो ....बिना दर्द के मजा नहीं आता है ...."

मैंने उसकी गाण्ड के नीचे तकिया घुसा दिया , उसकी चूत ऊपर की ओर उठ गई और मैंने इस बार पूरा जोर लगा कर लण्ड को चूत में गड़ा दिया। दर्द से उसने दांत भींच लिये और मैंने अब उसके बोबे थामें और मसलते हुए धीरे धीरे पर गहराई तक चोदने लगा। वो पसीने में नहा चुकी थी। उसका सारा बदन उत्तेजना से कांप रहा था। मैं भी अपना आपा खोता जा रहा था। उसकी टाईट चूत मेरे लण्ड को लपेट कर सहला रही थी।

उसने कहा,"राजा .... तेजी से चोदो ना ....आज मुझे मस्त कर दो ...."

मेरे धक्के तेज होते गये। उसकी सिसकारियाँ बढ़ती गई। वो अपने पूरे जोश से अपने चूतड़ हिला हिला कर चुदवा रही थी। अचानक मुझे लगा कि उसका कसाव मेरे पर बढ़ गया है .... और वो झड़ने लगी।

मैंने उस ओर ध्यान नहीं दिया ....और चुदाई जारी रखी। झड़ कर भी वो उसी जोश में चुदवाती रही .... मैंने उसे चूम चूम कर उसका चेहरा अपने थूक से गीला कर दिया था। वो भी बराबरी से मुझे चाट रही थी। अचानक उसने मुझे इशारा किया और वो मेरे ऊपर आ गई। आसन बदल लिया। वो मेरे पर झुक गई और लण्ड चूत में घुसा कर जबरदस्त धक्के मारने लगी। उसके बोबे जोर जोर से उछल रहे थे। मैंने दोनों बोबे को कस के मसलना शुरू कर दिया। उसके धक्के इतने जबर्दस्त थे कि उसे भी शायद तकलीफ़ हो रही होगी। लगता था जन्म-जन्म की प्यास बुझाना चाहती थी।

कुछ ही देर में मैं भी चरमसीमा पर पहुंच गया और और चूत के अन्दर ही लण्ड ने अपनी पिचकारी छोड़ दी। वो कब झड़ गई मुझे पता नहीं चला। पर हाफ़ते हुए मेरे पर लेट गई। उसका जिस्म पसीने में तर था। हम दोनों एक दूसरे से लिपटे हुए कुछ देर पड़े रहे। फिर मैं धीरे से उठा।

"सरोज तुम तो चुदाई में मस्त हो .... मेरा सारा माल निकाल दिया ...." सरोज फिर से शरमा गई।

"मैं तो दो बार झड़ गई .... हाय राम .... मेरा पेटीकोट तो दे दो ...." उसने झट से कपड़े पहन लिये।

मैंने भी कपड़े पहने और पूछा,"बाथरूम किधर है ...." उसने उंगली से इशारा कर दिया। मैं बाथरूम में गया और अपना मुख धो लिया ....तभी मेरी नजर हैंगर पर टंगे जैकेट पर पड़ी। वो सुधीर का था। मैंने तुरन्त उसकी तलाशी ली। उसमें कोई शायद नशे की कोई चीज़ थी। उसमें एक पिस्तौल भी था। सारी चीज़े यथावत रख कर मैं बाहर आ गया।

"अच्छा अब मैं चलता हूँ ...." उसने मुस्करा कर हामी भर दी ....

मैं जैसे ही बाहर निकला, मेरा मन एकदम धक से रह गया, दिव्या एक कुर्सी पर बैठी कोई मेग्ज़ीन देख रही थी।

"त् ....त् .... तुम ....कॉलेज नहीं गई ....?"

"और यहां की चौकीदारी कौन करता ....??? .... कल आओगे ना ...." उसने एक सेक्सी नजर डालते हुए कहा।

"कल ....तुम्हारी बारी है .... तैयार रहना ....!" मै धीरे से झुक कर बोला...

उसकी मुस्कान और झुकी झुकी नजरें उसकी स्वीकृति दर्शा रही थी ....।

समय देखा साढ़े दस बज रहे थे .... मैंने अपनी मोटर साईकल उठाई और सीधे पुलिस स्टेशन पहुंचा। अंकल मेरा ही इन्तज़ार कर रहे थे।

मैंने उन्हें एक एक करके सब बताना शुरु कर दिया,"अंकल, सुधीर के अलावा, हैप्पी, सुरजीत और मोन्टी है, चारों एक ही गांव के है .... हेप्पी टूसीटर चलाता है और नशे की चीजें बेचता है। मोन्टी किसी एजेन्ट से ये नशीली चीज़े लाता है। सुरजीत अवैध दारू के पाऊच लाता है और पानवाले के पास रखता है। सुधीर के पास भी घर पर ये नशे की चीज़े हैं और एक पिस्तौल भी है। और .... ...."सारी रिपोर्ट बताता रहा और रिपोर्ट देने के बाद मैंने उनसे एक दिन का समय और मांगा।

अंकल ने सारी बाते समझ ली थी। अंकल शहर के एस पी थे ....उन्हें शक तो पहले ही था पर नेहा के कहने पर उन्होंने कार्यवाही का वचन दिया था। उन्होंने जरूरी बातें अपनी डायरी में नोट कर ली।

मैं यहाँ से सीधा कामिनी से मिलने नेहा के घर चला आया था .... आज वो बहुत बेहतर लग रही थी .... चल फिर रही थी .... उसमें ताकत आ गई थी।

मैंने जब अपनी बात उसे बताई तो वह सन्तुष्ट नजर आई, पर खुद को रोने से नहीं रोक पाई। अंतत: वो फ़फ़क के फिर रो से पड़ी।
______________________________
AAG, PAANI, HAWAA, AUR THARAK APNA RASTA KHUD KHOJ LETE HAIN

Reply With Quote
  #59  
Old 22nd September 2009
wickedviks's Avatar
wickedviks wickedviks is offline
 
Join Date: 7th November 2006
Location: IN THE BUSH
Posts: 896
Rep Power: 20 Points: 684
wickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accolades
UL: 16.86 gb DL: 39.88 gb Ratio: 0.42
मैं पुलिस स्टेशन से बाहर आया और अपनी मोटर साईकल उठा कर सीधे सुधीर के घर आ गया। अभी सवेरे के साढ़े आठ ही बजे थे.हमेशा की तरह सुधीर घर पर नहीं था। उसे शायद यह मालूम नहीं था कि आज उसका इस घर में अन्तिम दिन है। घर में सरोज नहीं थी.दिव्या ही मिली।
आज तो जल्दी आ गये. क्या हुआ रात को नींद नहीं आई क्या.? उसकी चुलबुली हरकत मेरे मन को बहुत अच्छी लगी।
दिव्या .बस रात को तो मैं तुम्हारे ही सपने देखता रहा . तुम्हारे जैसी कमसिन और जवान लड़की जिसे मिल जाये.उसकी तो किस्मत ही खुल जाये. मेरी बात सुन कर वो और इठलाने लगी।
अब अन्दर भी चलो. मुझे वो धक्का देते हुए बोली.बोलो अब क्या इरादा है.!
बस एक मीठा सा चुम्मा. मैंने शरारत से कहा।
है हिम्मत तो ले लो.! उसने हंस कर कहा।
ऐसे नहीं . पहले अपनी आँखें बंद करो.फिर देखो मेरा कमाल.
उसने अपनी आँखें बन्द कर ली और अपना गोरा और चिकना चेहरा आगे कर दिया. मैंने उसके होंठ पर अपने होंठ रख दिये. उसके कांपते होंठो का स्पर्श मुझे रोमांचित कर गया। एकदम नरम होंठ.गुलाब की पंखुड़ियों की तरह .। हम दोनों एक दूसरे के होंठो को चूसने लगे.दोनों ही मदहोश होने लगे। कुछ देर बाद अलग हुए तो दोनों के चेहरे की रंगत बदली हुई थी। मेरा लण्ड खड़ा हो चुका था। उसकी आंखों में भी गुलाबी डोरे खिंच चुके थे।
दिव्या ने थोड़ा सा शर्माते हुए और फिर से आँखें बन्द करके कहा,जो .मेरी छातियों को पकड़ लो.हाय. मसल डालो. उसने अपनी छाती आगे को उभार दी, उसके तने हुए उरोज बाहर को उभर आये। मैंने उसकी चूंचियो पर अपना हाथ रख दिया। और हौले हौले से दबाने लगा। उसके मुख से सिसकारी निकलने लगी। वो भी मेरे हाथों पर ज्यादा दबाने के लिये और दबाव डालने लगी। मैंने उसकी कमर में हाथ डाल कर एक हाथ से उसके उभारों को मसलना शुरू कर दिया और अब मेरी कमर वाला हाथ चूतड़ों के ऊपर आ कर थम गया। मेरे हाथ उसके बोबे और चूतड़ दबा रहे थे और दिव्या अपने जिस्म को मेरे जिस्म से बल खा कर रगड़ रही थी। उसके मुँह से आह.हाय.मां री. जैसी सिसकारियाँ निकल रही थी। मैंने उसे दीवार से सटा कर उसकी चूत को पकड़ कर दबा दी। वो चिहुंक उठी.
हाय छोड़ दे जोऽऽऽ. मैं मर गई. वो मदहोश सी झूम गई। मैंने उसकी चूत नहीं छोड़ी .स्कर्ट के बाहर से ही उसकी चूत मसलता रहा. उसकी चूत पानी छोड़ रही थी.मेरे हाथ को गीलापन लगने लगा था।
वो मस्ती में झुकने लगी.पर उसने मेरा हाथ नहीं छुड़ाया.क्या कर रहे हो जोऽऽऽ. मुझे मार डालोगे क्या ???. अब बस अब.नहीं रहा जा रहा है. उसकी उत्तेजना बहुत बढ़ गई थी।.. बेहाल हुई जा रही थी.।
मैंने उसे अपनी बाहों में उठाया और प्यार से उसे बिस्तर पर लेटा दिया। उसकी आँखेंं बंद थी। मैंने उसका स्कर्ट ऊपर कर दिया.उसकी पानी छोड़ती हुई गीली चूत सामने थी। गुलाबी रंग. हल्की भूरी भूरी झांटे. चूत के दोनों लब फ़ड़फ़ड़ा रहे थे. मैंने अपनी पैन्ट उतार दी. और अपना मोटा और तन्नाया हुआ लण्ड उसकी पनीली चूत पर रख दिया। चिकनापन इतना था कि रखते ही सुपाड़ा अन्दर घुस पड़ा और छेद में उतर गया।
घुसा दे रे. हाय. जरा जोर लगा दे .जो. उसकी बैचेनी बढ़ रही थी. पूरा लण्ड लेने को उतावली हो रही थी. मैं उस पर झुक पड़ा.और जोर लगा कर लण्ड अन्दर सरकाने लगा। वो भी अपनी चूत का पूरा जोर लगा रही थी। जब दोनों और बेकरारी बराबर हो तब भला तेजी को कौन रोक सकता था। वो भरपूर जवान.खिलती हुई कली. पूरा जोश. नतीजा ये कि धक्का पर धक्का. गजब की तेजी. चूत का उछाल. लण्ड को सटासट चला रहा था। मैंने उसके बोबे भींच लिये.
______________________________
AAG, PAANI, HAWAA, AUR THARAK APNA RASTA KHUD KHOJ LETE HAIN

Reply With Quote
  #60  
Old 22nd September 2009
wickedviks's Avatar
wickedviks wickedviks is offline
 
Join Date: 7th November 2006
Location: IN THE BUSH
Posts: 896
Rep Power: 20 Points: 684
wickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accoladeswickedviks has received several accolades
UL: 16.86 gb DL: 39.88 gb Ratio: 0.42
और जोर से भींचो . मेरे राजा. चोद दो आज मुझे.! उसकी वासना बढ़ती जा रही थी. मेरा लण्ड पूरी गहराई तक पहुंच रहा था. उसकी चूत जवान थी .कोई भी लण्ड पूरा ले सकती थी। मेरा लण्ड भी मानो कम लम्बा लग रहा था।
अचानक मेरे चूतड़ पीछे से किसी ने दबा दिये. मैंने देखा तो सरोज थी.चुदाई के जोश में वो कब आई पता ही नहीं चला। उसने मुझे इशारा किया। मैंने समझ गया. मैंने तुरन्त ही दिव्या के बोबे जोर जोर से मसलने और खींचने लगा। उसने भी मेरे चूतड़ दबाना चालू रखा।
जो मत करो.मैं झड जाऊंगी. हाऽऽऽय ना करो.. पर मैंने बेरहमी से दिव्या के बोबे मसलना जारी रखा. और धक्के चूत में गड़ा कर मारने लगा। उसे जबर्दस्त चुदाई चाहिये थी।
मैं मर गई.राम रे. चुद गई. मेरी फ़ाड़ डाल जो. हाय मैं गई.. उसके जिस्म में उबाल आ गया था। उसे नहीं पता था कि उसकी मां उसके पास खड़ी है। मेरी उत्तेजना भी बहुत बढ़ गई थी. पर अब दिव्या का शरीर ऐंठने लग गया था। वो मुझे अपनी ओर जोर से खींचने लगी थी। अचानक उसने पूरी ताकत से मुझे चिपका लिया और उसकी चूत लहरा उठी। वो झड़ने लगी थी। सरोज ने दिव्या का जिस्म जोर जोर से सहलाना शुरु कर दिया था। उसकी चूत का कसना और ढीला होना.उसका पानी छोड़ना मुझे बहुत सुहाना लग रहा था। सरोज बराबर उसका जिस्म सहलाये जा रही थी।
झड़ जा बेटी. निकाल दे पूरा पानी. सरोज उसे प्यार से कह रही थी।
मांऽऽऽ . हाय मेरी मां ऽऽऽ . तेरी बेटी तो चुद गई. जो ने तो मेरा दम निकाल दिया. दिव्या हांफ़ते हुए बोली। मैंने अपना लण्ड दिव्या की चूत से बाहर निकाल दिया।
लेकिन मेरा लण्ड तो देखो ना.अभी तक ये फ़ुफ़कार रहा है. सरोज तुम ही शान्त कर दो. मैंने अपनी बात भी कही. दिव्या भी अब बिस्तर से उठ चुकी थी।
जो.मम्मी की गाण्ड मार दो. मां की गाण्ड बहुत नरम है.! अचानक दिव्या ने मुझे सुझाया।
सरोज ने शरम से अपना मुख छिपा लिया। मैंने सरोज को तुरन्त घोड़ी बना दिया। और साड़ी खींच दी। सरोज की गोरे गोरे चूतड़ों की दोनों फ़ांके सामने आ गई। सरोज ने अपनी दोनों टांगें फ़ैला कर अपने गाण्ड का छेद खोल दिया। फिर मुझसे शर्माते हुए बोली,हाय .मत करो जो.मैं मर जाऊंगी. फिर दिव्या की तरफ़ देखा - दिव्या तू जा ना यहाँ से.
मां, मेरे सामने ही गाण्ड चुदवा लो ना.! मुझे भी तो एक इसका एक्स्पीरीएन्स चाहिये ना.!
चल हट. बेशरम.तेरे सामने चुदूंगी तो शरम नहीं आयेगी?
मैं भी तो आपके सामने चुदी थी ना.जो लग जाओ ना अब. दिव्या ने पास पड़ी तेल की शीशी से तेल मां की गाण्ड में लगा दिया.अब चोद दो मां की गाण्ड को.!
मुझे लगा कि बस स्वर्ग है तो यहीं है.. मां बेटी मुझसे इतने उत्साह से चुदवा रही थी.मैं तो सातवें आसमान पर पहुंच गया। मैंने अपना लण्ड सरोज की गाण्ड के छेद पर लगा दिया और जोर लगाया, छेद में तेल भरा हुआ था मेरा सुपाड़ा फ़क की आवाज करता हुआ छेद में फ़ंस गया।
उईऽऽ.मां. हाय रे.घुस गया. ! सरोज सिसक उठी। दिव्या अपनी मां के बोबे पकड़ कर धीरे धीरे मलने लगी और प्यार करने लगी।
जो. मेरी प्यारी मां को तबियत से चोदो. मां को आनन्द से भर दो. देखो ना मां को कितना अच्छा लग रहा है. दिव्या मां की ओर प्यार से देख रही थी। सरोज ने अपनी आँखें बन्द कर ली थी। मैं अब अपना लण्ड जोर लगा कर अन्दर सरकाने लगा। मेरे लण्ड को छोटे से छेद में घुसने के कारण तेज मीठा सा सा मजा आने लगा। पर सरोज ने अपने दांत भींच लिये। उसे हल्का सा दर्द हो रहा था। दिव्या मां को मजा देने के लिये उसके बोबे मसल रही थी। मेरा लण्ड गाण्ड में पूरा घुस चुका था। सरोज ने मुझे मुड़ कर देखा और आंख मार दी.
लण्ड है या लोहा. मेरी तो फ़ाड़ के रख दी. अब मारो ना जोर से गाण्ड को.
मैंने हरी झण्डी पाते ही स्पीड बढ़ा दी। वो सिसक उठी। मजे में उसकी फिर आँखें बन्द होने लगी।
चोद दे मेरी मां को. प्यार से भर दो मां को. मेरी प्यारी मां. अब दिव्या सरोज को चूमने लगी थी। बोबे पर तो दिव्या ने कब्जा जमा रखा था। मैंने कमर में हाथ डाल कर उसकी चूत में अपनी अंगुली डाल दी। और डबल चुदाई करने लगा। उसका दाना मसलने लगा। उसे तेज मजा आने लगा।
हाय रे छोड़ दे अब रे. लगा .जोर से लगा. मेरी मांऽऽऽ. मार दी रे मेरी. सरोज ना जाने क्या क्या कहती रही। उसकी गाण्ड अब मक्खन की तरह चिकनी हो गई थी। लण्ड सटासट चल रहा था। अति उत्तेजना से उसका दाना अचानक ही फ़ड़फ़ड़ा उठा और सरोज झड़ने लगी। ये देख कर कर दिव्या ने भी मां को कस लिया। मैंने भी झड़ने के चक्कर में स्पीड बढ़ा दी। मेरा सुपाड़ा फ़ूल कर कुप्पा हो रहा था। सहनशीलता सीमाएं पार करती जा रही थी और आखिर अन्तिम पड़ाव आ ही गया। मैंने तुरन्त अपना लण्ड बाहर निकाल लिया। दिव्या ने देखते ही देखते मेरे लण्ड को मुठ्ठी में भर लिया और कस कर दबा कर मुठ मार दिया। मेरे लण्ड ने पिचकारी लम्बी और दूर तक उछाल दी।
हाय मम्मी.देखो तो. माल तो फ़व्वारे की तरह निकल रहा है.
सरोज ने बिना समय गवांये झट से मेरा लण्ड मुख में भर लिया. अब वीर्य सरोज के मुख में भर रहा था. और वो उसे एक ही घूंट में पी गई। अब वह बचे खुचे वीर्य को भी निचोड़ रही थी. दिव्या अपनी मां की इस हरकत को ध्यान से देख रही थी.
______________________________
AAG, PAANI, HAWAA, AUR THARAK APNA RASTA KHUD KHOJ LETE HAIN

Reply With Quote
Reply Free Video Chat with Indian Girls


Thread Tools Search this Thread
Search this Thread:

Advanced Search

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

vB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off
Forum Jump



All times are GMT +5.5. The time now is 03:37 AM.
Page generated in 0.01814 seconds