Xossip

Go Back Xossip > Mirchi> Stories> Hindi > Holi Special............................

Reply Free Video Chat with Indian Girls
 
Thread Tools Search this Thread
  #1  
Old 1st March 2013
xyz999999999 xyz999999999 is offline
 
Join Date: 1st March 2013
Posts: 8
Rep Power: 0 Points: 1
xyz999999999 is an unknown quantity at this point
Holi Special............................

Dear Friends
m starting a new thread Holi Special............................
waiting for your replys
enjoyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyyy

Reply With Quote
  #2  
Old 1st March 2013
xyz999999999 xyz999999999 is offline
 
Join Date: 1st March 2013
Posts: 8
Rep Power: 0 Points: 1
xyz999999999 is an unknown quantity at this point
मकान मालकिन के साथ होली

मेरा नाम मयंक है, मैं 24 साल का लड़का हूँ, मेरी शादी हो चुकी है। मेरा शरीर दुबला है पर एक बड़े लंड का मालिक हूँ। मैं भोपाल में एक प्राइवेट कंपनी में काम करता हूँ, वैसे मैं लखनऊ का रहने वाला हूँ और यहाँ भोपाल में किराये के घर में रहता हूँ। मेरी मकान मालकिन बहुत सेक्सी हैं, उनकी आयु करीब 38 साल है। उनका एक बेटा है पर वो लगती बहुत सेक्सी हैं बिल्कुल गुड़िया जैसी। उनके पति बाहर नौकरी करते हैं और दो महीने में एक बार ही घर आते हैं। शायद इसीलिए आंटी मुझे देखती रहती थी क्योंकि उनकी सेक्स कि प्यास बुझ नहीं पाती होगी।
होली की बात है, मेरी बीवी अपने मायके गई हुई थी और मैं भोपाल में ही था। अंकल भी होली पर घर नहीं आये थे।
सुबह सब लोग होली खेल रहे थे पर मैं अकेला था तो अपने कमरे में अकेला बैठा टीवी देख रहा था। आंटी का बेटा अपने दोस्तों के साथ होली खेलने गया हुआ था। आंटी भी मोहल्ले में होली खेल कर थोड़ी देर में वापस आ गई।
वो सीधे मेरे पास आई, मैंने उन्हें होली की शुभकामनाएँ दीं तो वे शरारत से मेरे गाल पर रंग लगा कर हँसने लगी। फिर वो अपने घर चली गईं नहाने के लिए। थोड़ी देर में उनकी आवाज आई, शायद वो मुझे बुला रही थी।
मैं ऊपर गया, वहाँ देखा तो बाथरूम का दरवाजा खुला था, मैं बाहर ही खड़ा रहा तो आंटी ने आवाज देकर कहा- अंदर आ जाओ ! यह नल नहीं खुल रहा है, इसे खोल दो।
मैं अंदर गया, आंटी नंगी थी तो मुझे कुछ झिझक हुई, आंटी ने कहा- अरे आ जाओ ! नल खोल दो !
तो मैंने कहा- आप तो.......!
आंटी बोली- तो क्या हुआ, आ जाओ ना ! क्या तुम अपनी बीवी के रहते बाथरूम में नहीं जाते क्या? शर्माओ मत और नल खोल दो.....
आंटी बिलकुल नंगी थी और उनका फिगर मेरी बीवी जैसा ही था, बिल्कुल सुडौल ! लग ही नहीं रहा था कि 38 साल की हैं और एक बेटे की माँ हैं !
मैंने जैसे ही नल खोला, उन्होंने मेरे ऊपर पानी डाल दिया और मैं पूरा भीग गया।
मैंने आंटी से कहा- ऐसे मैं कैसे नीचे जाऊँ?
तो वो कहने लगी- तुम भी यहीं नहा कर अपना रंग छुड़ा लो.....
मैंने दूर होते हुए मना किया तो आंटी ने मुझे अपनी बाँहों में भर के कहा- मैं तो तुम्हारे अनुभव का लुत्फ़ उठाना चाहती हूँ, जब तुम अपनी बीवी को चोदते हो तो मुझे ऊपर अपने बेडरूम तक उसकी सिसकारियाँ सुनने को मिलती हैं। बहुत दिनों से मैं तुमसे चुदना चाहती थी। मैं तो तुम्हारी चुदाई की आवाजों से ही समझ गई थी कि तुम चोदने में तेज हो, भले ही दिखते छोटे हो।
और उन्होंने मेरा लोअर और अंडरवियर उतार दिया और बनियान भी उतार फेकीं। अब तक मेरा भी लंड उनकी भरी चूत को देख कर पूरा खड़ा हो चुका था। उनके स्तन तो इतने गोल मटोल थे कि मेरा भी ईमान डोल गया और मैंने भी आंटी को कस कर जकड़ लिया। आखिर मेरी बीवी 15 दिन से बाहर थी तो मेरा लंड भी तबसे सो रहा था।
फिर तो मैंने आंटी को चूमना शुरू कर दिया और उनके स्तन दबाने लगा और वो भी मेरी गांड पर हाथ फेर रही थी। अचानक से उनकी नज़र मेरी छाती पर पड़ी जहाँ चुदाई के समय मेरी बीवी ने काट कर निशान बनाये थे तो कहने लगी- तुम लोग धांसू चुदाई करते हो !
निशान देख कर आंटी को भी मदहोशी छाने लगी और मेरे मुँह को अपने वक्ष पर दबाने लगी। मैंने उनके चुचूक चूसना शुरु किया तो वो काटने को कहने लगी।
मैंने उनके वक्ष पर काटना चालू कर दिया और उनका शरीर अकड़ने लगा और मैं उनकी चूत को सहलाने लगा। फिर तो वो खूब गर्म हो गई- उनके मुँह से आआह्ह्ह......ओह्ह्हह्ह निकलने लगा और उनकी पकड़ मेरे लंड पर और तेज हो गई।
फिर तो उन्होंने मेरे लंड को अपनी चूत पर टिका दिया और कहने लगी- मयंक चोद दो मुझे !
मैंने अपने लंड को चूत के मुख पर रख कर धक्का दिया तो वो आराम से अंदर चला गया। इसी समय बस मुझे लगा कि आंटी एक बच्चे की माँ हैं नहीं तो बाकी तो सब इतना सुडौल है कि कोई भी उनके नाम की मुठ मार सकता है।
फिर मैंने आंटी को बाथरूम में ही लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर चुदाई करने लगा। मैं उनकी चूत में अपना लंड अंदर-बाहर करता रहा और साथ ही साथ उनके वक्ष पर काटता भी रहा। जब भी मैं उन्हें काटता, वो बस आआआहऽऽऽ मार डाला ! करती रही, कहती- मयंक, आज तो जोर से चोदो और मेरी चूत को ढीला कर दो !
मैं भी उन्हें खूब पेलता रहा, मैंने कम से कम ३० मिनट आंटी को चोदा, फ़िर आंटी का शरीर अकड़ने लगा तो उन्होंने मुझे भींच लिया और मैंने भी चुदाई की गति बढ़ा दी। थोड़ी ही देर में आंटी झड़ गई और मेरा लण्ड उनके लसलसे पदार्थ से नहा गया।
थोड़ी ही देर में जब मैं भी झड़ने वाला था तो मैं अपना लंड बाहर निकलने लगा। इतने में उन्होंने लंड को पकड़ कर कहा- पूरी चुदाई चूत में ही करो ! बाहर मत निकालो ! जैसे तुम अपनी बीवी को पूरा चोदते हो, वैसे हो चोदो !
मैंने पूछा- आपको कैसे पता?
तो कहने लगी- मैं सुनती रहती थी कि तुम्हारी बीवी कहती थी कि जानू, पूरा कर दो !
मैंने कहा- आंटी उस समय मैं कंडोम लगाये रहता था, अगर अभी चूत में पानी छोड़ा तो गड़बड़ हो जायेगी।
आंटी ने कहा- राजा, मेरी नसबंदी हो चुकी है। तुम चिंता मत करो और मजे से चोदो !
बस फिर क्या था, मैं निश्चिंत हो कर उन्हें चोदने लगा और करीब दस मिनट बाद दोनों एक साथ झड़ गए और मैंने अपना वीर्य उनकी चूत में भर दिया।
तो दोस्तो, इस तरह मैंने अपनी सेक्सी मकान मालकिन को चोदा और अपनी होली सफल कर ली।
आपको मेरी कहानी कैसी लगी, जरूर बताएँ......
[email]xyz99999

Please DO NOT post any personal information like email id or phone number in a public forum. If you do so, it might result in a lot of spam flooding your inbox, for which Xossip will not be responsible.

Thanks
fjb

Last edited by friend_just_buddy : 1st March 2013 at 02:31 PM. Reason: deleting email address

Reply With Quote
  #3  
Old 1st March 2013
xyz999999999 xyz999999999 is offline
 
Join Date: 1st March 2013
Posts: 8
Rep Power: 0 Points: 1
xyz999999999 is an unknown quantity at this point
भाभी के साथ होली

आपने मेरी पहली सच्ची कहानी पढ़ी होगी जिसमे मैंने पहली बार अपनी चाची की चुदाई की थी उसके बाद पिछले 13 सालों से उसे चोदता आ रहा हूँ,जिसके वजह से मुझे सेक्स की आदत ही पड़ गई यानि मैं पूरा चुदक्कड़ बन गया !
उसके बाद मैं जिसे भी देखता उसको चोदने के बारे में ही सोचता ! वैसे हमारा खानदान बड़ा होने की वजह से मेरी करीब 14 भाभियाँ थी और तीन सेक्सी चाचियाँ भी थी। वैसे सभी एक नंबर की माल थी और मैं सभी को चोदने के तरीके ढूंढ रहा था लेकिन कोई हाथ नहीं आ रही थी। मैंने मेरी चाची को जैसे चोदा था (रात को साथ में सोने के बाद गर्म करके चोदने का तरीका) वही तरीका मुझे बेहद पसंद है लेकिन वो मौका मुझे इनके साथ मिल नहीं रहा था, अब नया तरीका सोच रहा था !
साल 2004 में मैं अमरावती में जॉब करता था लेकिन कोई भी ऐसा त्यौहार नहीं रहा कि मैं गाँव में नहीं जाता था।
ऐसे ही मैं होली के त्यौहार के लिए गाँव गया हुआ था। रंगपंचमी की दिन सुबह उठा और मुँह-हाथ धोकर दोस्तों के साथ खेत में दारू पीने और रंग खेलने चले गया। दारू पीने के बाद धीरे धीरे नशा बढ़ने लगा और बातों बातों में दोस्तों ने चुदाई के किस्से सुनाने चालू किये जिससे मेरा लंड खड़ा होने लगा और मेरे दिमाग में चाची को चोदने की इच्छा हुई और वहाँ से उठ कर मैं वापस घर आ गया।
मैं चाची के यहाँ गया और चाची को चूमने लगा तो उसने बोला- अभी नहीं, घर पर सब लोग हैं, रात को जितनी मर्जी, उतना चोद लेना !
और मुझे उसने बाहर जाने के लिए बोला।
मैं बाहर तो निकल गया लेकिन मेरा लंड अभी भी तना हुआ था,बार-बार मुझे चोदने की इच्छा हो रही थी !
मैं चुपचाप ऐसे ही बैठा हुआ था कि मेरे दिमाग में भाभियों को रंग लगाने की बात आ गई और मैं उठ कर एक-एक करके सबको रंग लगाने निकला ! अभी तक मेरा लंड वैसे ही हिचकोले मार रहा था।
मैंने सोचा कि रंग लगाने के बहाने से भाभियों को छूने का मौका तो मिल ही जायेगा और मैंने एक-एक के घर में जाकर रंग लगाना चालू किया। उस समय हर किसी के घर में कोई न कोई मौजूद था जैसे किसी का पति तो किसी के सास-ससुर और यह देख के मेरा दिमाग और ज्यादा ख़राब हो रहा था क्योकि मेरे लंड को ठंडक नहीं मिल रही थी।
अब मैं अपने चचेरे भाई के यहाँ जा रहा था उसकी अभी तीन महीने पहले शादी हुई थी, उसकी बीवी यानि मेरी भाभी का नाम अरुणा था वो दिखने में थोड़ी सांवली थी मगर बदन को देखा तो किसी का भी लंड खड़ा हो जाये। उसका बदन 34-30-36 था, उसके चूचे तो दीवाना कर देते थे वैसे ही जब से उनकी शादी हुई थी तब से ही मैं उसको चोदने के लिए बेताब था।
उनके घर में उन दोनों के शिवाय कोई नहीं रहता था क्योंकि मेरे भाई के माता-पिता का देहांत हो चुका था। मैं अभी भी नशे में था लेकिन होश में था और यही सोच कर उसके घर जा रहा था आज मेरा भाई घर में न हो। मैं उनके घर के दरवाजे पर पहुँचा और सीधा अन्दर चले गया तब भाभी खाना बना रही थी। वो मुझे देखते ही समझ गई कि मैं उनको रंग लगाने के लिए आया हूँ।
भाभी बोली- अरे देवर जी, आप कब आये अमरावती से?
मैं बोला- कल शाम को आया भाभी ! अभी मैं आपको रंग लगाने आया हूँ।
वो बोली- मैं समझ गई थी कि आप होली खेलने के लिए आये हो लेकिन थोड़ा रुको, मुझे सब्जी का तड़का लगाने दो।
मैंने उनसे मेरे भाई के बारे पूछा तो वो बोली- आज कंपनी में काम होने की वजह से वो ड्यूटी पर गए हैं, शाम को 6 बजे आयेंगे।
वैसे ही मेरे दिमाग में ख्याल आया कि आज भाभी को तो चोदने का अच्छा मौका मिल गया है। देखते ही मेरा लंड फिर से तन गया और मेरे बरमुडे से बाहर निकलने लगा।
आज वैसे भी मैं बेफिक्र था क्योंकि अगर भाभी को बुरा लगा तो परिवार वालों को लगेगा कि दारू के नशे में रंग लगते वक़्त गलती से हाथ लग गया होगा।
उनके घर में दो कमरे थे, एक में मैं खड़ा था और दूसरे में वो खाना बना रही थी, उसी कमरे में उनका बेड भी था।
अब मैं उनके अन्दर के कमरे में चले गया और बेड पर बैठा उनके वक्ष को घूर रहा था।
क्या हसीन नजारा था, दो उभारों के बीच में पूरी खाई दिख रही थी। उसने लाल साड़ी और काला ब्लाऊज पहना था।
मैं धीरे धीरे अपने लंड को दबा रहा था, उतने में उनका ध्यान मेरी तरफ गया और मैंने फटाक से अपना हाथ अपने लंड से हटा लिया। उन्होंने ये सब देख लिया और अनदेखा करके सब्जी बनाने लगी।
वो मेरे से तीन साल से छोटी थी लेकिन रिश्ते में भाभी होने की वजह से मैं उनको आप आप कहता था।
फिर 5 मिनट के बाद वो वहाँ से उठी बोली- अब आप रंग लगा लो।
मैं उनके पास गया और पीछे से दोनों हाथों से उनके चेहरे पर रंग लगाना चालू किया।
अभी मैं उनके शरीर से दूर ही था, धीरे से मैंने अपना लंड उनके गांड से चिपकाया और जोर जोर से उनको रंग लगाना चालू किया जिससे उसको लंड के धक्के समझ में नहीं आ रहे थे।
मेरा दिमाग दूर का सोच रहा था कि अब समय बर्बाद करने में मतलब नहीं और ऐसा मौका शायद मिले।
मैं अपना मुँह नीचे करके उनके गर्दन के पास लाया और अपने होठों से उसको चूमने लगा तो वो एकदम चकरा गई कि यह क्या हो रहा है।
वो बोलने लगी- देवर जी बस हो गया रंग लगाना, अब छोड़ो !
लेकिन मैं कहाँ रुकने वाला था, मैंने फिर से कस कर उनको पकड़ लिया और गर्दन और पीठ की चूमना चालू किया। साथ में पीछे से लंड भी गांड को ठोक रहा था !
अब मैंने उनकी साड़ी का पल्लू नीचे गिरा दिया जिससे उसका ब्लाउज पूरा खुला हो गया। वो ना-नुकुर करने लगी...प्लीज छोड़ो ना... कोई आ जायेगा...प्लीज...
मैं यह सुनते ही समझ गया कि भाभी को यह सब अच्छा लग रहा है लेकिन वो डर रही है।
मैंने उनकी बातों को अनसुना करके अपने दोनों हाथों से ब्लाऊज के ऊपर से स्तन दबाना शुरु किया।
वाह ! क्या सख्त चूचे थे.... बहुत अच्छा लग रहा था ! अभी तक मैंने सिर्फ अपने चाची के ही चूचे दबाये थे जो बहुत ही नर्म थे !
अब मैं जोर जोर से स्तन दबा रहा था। वैसे ही भाभी की आवाज तेज हो रही थी वो सिसकारियाँ मार रही थी उसकी धड़कन भी तेज हो गई थी...आ...आ...हु...हु...आह्ह्ह.. ह्ह्ह....
अब मुझे पूरा यकीन हो गया था कि अब भाभी गरम हो गई है। मैंने उनका हाथ पीछे लेकर अपने लंड पर रख दिया अब वो मेरा लंड सहला रही थी और बीच-बीच में दबा भी रही थी।
और मैं दोनों हाथों से उसके स्तन दबा रहा था !
मैंने उनका ब्लाउज खोलना शुरु किया और खोलते ही उनकी काली ब्रा दिखने लगी, मैंने ब्रा के ऊपर से दबाना चालू रखा।
भाभी बोली- देवर जी, जो भी करना है कर लो लेकिन दरवाजा तो बंद करो !
और मैं उनको छोड़ कर दरवाजा बंद करने गया।
दरवाजा बंद करने के बाद मैंने उनकी पूरी साड़ी उतार दी और अपना बरमूडा भी उतार दिया। अब मेरे शरीर पर चड्डी और शर्ट के शिवाय कुछ नहीं था और उसके शरीर पर सिर्फ ब्रा, चड्डी और पेटीकोट ही था !
हम दोनों ने एक दूसरे को बाँहों में भर लिया और होठों को चूमना शुरु किया, साथ साथ में मैं उसकी गर्दन की भी पप्पी ले रहा था।
मुझे मालूम है कि औरत के गर्दन के पास चूमा तो वो जल्दी गर्म होती है ऐसा मुझे मेरी चाची ने बताया था।
मैंने अपने हाथों से उसके ब्रा के हुक भी खोल दिए और उसे निकाल कर बेड पर फेंक दिया ! ब्रा खोलते ही उसके बड़े बड़े चूचे मेरे सीने से चिपक गए। मैंने उसको थोड़ा सा दूर किया और हाथों से उनको दबाना चालू किया। उसकी निप्पल बहुत ही छोटी और गुलाबी रंग की थी !
उसने भी अपना एक हाथ मेरे चड्डी में डाल दिया और मेरे 6" के लंड को सहलाने लगी। थोड़ी देर मसलने के बाद मैंने उसकी एक एक करके दोनों चूचियों को मुंह से चुसना चालू किया, मैं जैसे जैसे चूसता वैसे वैसे वो मेरा लंड और जोरों से दबाती।
अब हम दोनों बिस्तर पर चले गए और 69 की अवस्था में हो गए। मैंने उनका पेटीकोट पूरा ऊपर कर लिया और उनके पैरों को चूमने लगा ! वो भी मेरे पैरों को चूमने लगी। पैर चूमते चूमते अब मैं उसकी चूत तक पहुँच गया, उस पर सिर्फ चड्डी ही थी। मैंने चड्डी के ऊपर से उसकी चूत सहलानी शुरु किया तो वो अपने पाँव खींचने लगी।
मैंने जबरदस्ती से उसके दोनों पावों को फैला कर उसके चूत को अपने मुँह से चूमना शुरु किया तो वो अपने हाथों से मुझे धकेलने लगी।
अब मैंने उसकी चड्डी को नीचे सरकाना शुरु किया और कुछ ही सेकंडों में उसकी चूत को पूरा खुला कर दिया।
क्या चूत थी भाभी की ! एक भी बाल नहीं था, पूरी चिकनी चूत थी !
उसी अवस्था में मैं उसके शरीर के ऊपर हो गया और अपनी जीभ से उसकी चूत को चाटने की कोशिश करने लगा, चूत गीली हो गई थी !
वो भी मेरा लंड चड्डी से ही हिला रही थी, मैं जैसे जैसे उसकी चूत चाट रहा था, वैसे वैसे उसकी आवाज में बदल हो रहा था।
वो बोलने लगी- प्लीज... ऐसा मत करो... गुदगुदी हो रही है !
मैंने उसको बोला- भाभी आप भी मेरा लंड चूसो ना !
वो बोली- नहीं बाबा, मुझे यह सब गन्दा लगता है।
लेकिन मेरी विनती से उसने चड्डी से ही मेरे लंड को अपने मुँह में भर लिया।अब मैंने एक उंगली उसके चूत में डाल दी और अन्दर-बाहर करने लगा। उसकी चूत बड़ी कसी थी लेकिन गीली होने की वजह से उंगली आराम से जा रही थी। कुछ देर अन्दर-बाहर करने के बाद उसकी सिसकारियाँ बढ़ने लगी।
उसने मेरी चड्डी उतार दी और मेरा लंड देखते ही वो खुश हो गई, बोली- आपका लंड तो बहुत ही बड़ा है, आपके भाई तो इससे भी छोटा और पतला है !
उसने अपने पेटीकोट से मेरा लंड पौंछा और उसे चूमना शुरु किया।
धीरे धीरे उसकी इच्छा उसे चाटने की भी हुई लेकिन वो थोड़ा ही चाट पाई !
इधर मैं जोर-जोर से उंगली अन्दर बाहर कर रहा था ! अब उसको सहन नहीं हो रहा था तो वो बोली- अब जल्दी से इसे मेरी चूत में डाल दो नहीं तो अगर कोई घर पर आ गया तो मेरी चूत ऐसे ही प्यासी रह जाएगी !
मैंने भी वक़्त की नजाकत को समझा और उसे चोदने का मन बना लिया। शायद कोई आता तो मेरा भी लंड प्यासा का प्यासा ही रहता !
मुझे चाची के साथ सेक्स करते करते बहुत सारे आसन मालूम थे फिर भी मैंने भाभी को पूछा- आपको कौन से आसन में चुदवाना पसंद है?
तो वो बोली- आप जिसमें चोदोगे वो चलेगा बस अब चोदना चालू करो !
और मैंने उनको अपने ऊपर लेकर अपने लंड पर उसकी चूत को रखा और एक झटके के साथ उसे नीचे अपने लंड पर दबाया तो वो चिल्ला उठी- वोह्ह्ह्ह....वोह्ह्ह....बहुत दर्द हो रहा है ...
वो तड़फ रही थी- प्लीज निकालो बाहर ! नहीं तो मेरी चूत फट जाएगी।
लेकिन मैंने उसे पकड़ कर रखा था, अभी भी मेरा लंड उसकी चूत में था, कुछ सेकंड रुकने के बाद मैंने उसे अपने सीने पर झुका लिया और लंड को अन्दर-बाहर करने लगा। अब उसको थोड़ा-थोड़ा दर्द हो रहा था। लेकिन उसे आनन्द भी आ रहा था, साथ में उसके होठों को भी चूम रहा था। फिर धीरे धीरे मैंने स्पीड भी बढाई और जोर-जोर से चोदने लगा।
अब वो भी अपनी गांड हिलाने लगी और अन्दर-बाहर करने लगी। ऐसा हमने करीब 5 मिनट किया।
उसके बाद मैंने उसे घोड़ी बनाया और जोरदार धक्के के साथ अपना पूरा 6" का लंड उसकी चूत में डाल दिया।
वैसे ही वो चिल्ला उठी- अरे बाप रे ....मार डालोगे क्या?
अब मैंने धीरे धीरे अन्दर-बाहर करना शुरु किया, अपने दोनों हाथों से उसके स्तन दबाना भी चालू रखा। इतने में वो झड़ गई। अब मुझे भी लग रहा था कि मैं जल्दी झड़ जाऊँगा तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई और तुरंत दो मिनट के बाद मैं भी झड़ गया और अपना पूरा पानी भाभी की चूत में छोड़ दिया।
अब भाभी के चेहरे पर ख़ुशी साफ झलक रही थी। हमने अपने अपने कपड़े पहने और दरवाजा खोल दिया।
मैंने भाभी को बताया- मैं दस दिनों की छुट्टियों पर आया हूँ !
उसने भी मुझे बताया की मेरे भाई की अगले 7 दिन नाईट ड्यूटी है !
हमने तय किया कि रोज रात को 11 से सुबह के 4 बजे तक यही रासलीलायें खेलेंगे और एक चुम्बन के साथ मैं वहाँ से निकल गया।
अगले 7 दिन मैं ऐसे ही भाभी को चोदता रहा रोज रात को हम 3-4 बार सेक्स करते रहे और १० दिन के बाद मैं फिर से अपने ड्यूटी पर चला गया। भाभी को चोदने की बात सिर्फ मेरी चाची को ही मालूम है।
अब कभी कभी जब मैं गाँव को जाता हूँ तो मौका मिलते ही भाभी को चोदे बगेर रहता नहीं !
अब उसको मेरा लंड चूसने से परहेज नहीं है और बड़े प्यार से पूरा लंड मुँह में लेकर चूसती है !
[email xyz999999

Please DO NOT post any personal information like email id or phone number in a public forum. If you do so, it might result in a lot of spam flooding your inbox, for which Xossip will not be responsible.

Thanks
fjb

Last edited by friend_just_buddy : 1st March 2013 at 02:28 PM. Reason: deleting email address

Reply With Quote
  #4  
Old 1st March 2013
sarfarazdgreat's Avatar
sarfarazdgreat sarfarazdgreat is offline
LIVE LIFE KINGSIZE
 
Join Date: 3rd June 2011
Location: PATNA
Posts: 3,099
Rep Power: 10 Points: 1435
sarfarazdgreat is a pillar of our communitysarfarazdgreat is a pillar of our communitysarfarazdgreat is a pillar of our communitysarfarazdgreat is a pillar of our communitysarfarazdgreat is a pillar of our communitysarfarazdgreat is a pillar of our communitysarfarazdgreat is a pillar of our community
Good
______________________________
PLEASE VISIT MY THREAD Uff...ye kya ho gaya.

Reply With Quote
  #5  
Old 1st March 2013
komaalrani's Avatar
komaalrani komaalrani is offline
Custom title
 
Join Date: 25th November 2011
Location: India
Posts: 8,903
Rep Power: 24 Points: 13749
komaalrani is one with the universekomaalrani is one with the universekomaalrani is one with the universekomaalrani is one with the universekomaalrani is one with the universekomaalrani is one with the universekomaalrani is one with the universekomaalrani is one with the universekomaalrani is one with the universekomaalrani is one with the universe
It will be grt lekin isame holi se jude sansmarn , stories , jokes gaane post karen to acchaa rahega
______________________________
komaal...the best MAAL

Phagun ke din chaar

erotica thriller

ननद ने खेली होली ( पूर्ण )
( ननद की ट्रेनिंग सिकेवेल) - एक रसीली होली की कहानी


Nagme Naye Poorane - Shyari of some old and new poets from Meer To Miraji


100 years of Indian Cinema - On occasion of 100 years of Indian Cinema

Ye hai Mumbai meri jaan- celebration of a City

Reply With Quote
  #6  
Old 1st March 2013
xyz999999999 xyz999999999 is offline
 
Join Date: 1st March 2013
Posts: 8
Rep Power: 0 Points: 1
xyz999999999 is an unknown quantity at this point
Thanks for the reply komaalrani sure we should post all the stories, sexy gane and jokes related to holi

Reply With Quote
  #7  
Old 2nd March 2013
pinuram's Avatar
pinuram pinuram is offline
Forbidden Love
Visit my website
  Annual Masala Awards: Thread of the Year    Annual Masala Awards: Thread of the Year    Hero of Stories: Regularly posts good stories      
Join Date: 30th March 2007
Location: New Delhi
Posts: 22,546
Rep Power: 88 Points: 60169
pinuram has hacked the reps databasepinuram has hacked the reps database
Send a message via Yahoo to pinuram
UL: 7.66 gb DL: 80.96 gb Ratio: 0.09
holi haii bhaii, agee bhi kuch khel dekhen kya ?? bahut sare to bhabiyan hain, ek ek kaar k likhoge bhi to 14 updates to ho hi jayenge.
______________________________

Reply With Quote
  #8  
Old 2nd March 2013
raone66's Avatar
raone66 raone66 is offline
MY NAME IS ENOUGH
Visit my website
  Annual Masala Awards: Thread of the Year      
Join Date: 26th April 2012
Location: city of lust
Posts: 50,103
Rep Power: 194 Points: 169635
raone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps databaseraone66 has hacked the reps database
Send a message via Yahoo to raone66
Quote:
Originally Posted by komaalrani View Post
It will be grt lekin isame holi se jude sansmarn , stories , jokes gaane post karen to acchaa rahega

______________________________

Reply With Quote
  #9  
Old 4th March 2013
xyz999999999 xyz999999999 is offline
 
Join Date: 1st March 2013
Posts: 8
Rep Power: 0 Points: 1
xyz999999999 is an unknown quantity at this point
HOLI NE MEREE KHOLI

Is holi par mummy papa bahar ja rahe the. Relation main ek death ho gayi thi. Maan ne pados ki aunty ko mera dhyaan rakhne ko kah diya tha. Aunty ne kaha tha ki aap log jaiye Sunita ka ham log dhyan rakhenge. Maan ne hame samjhaya aur fir chali gayi. Pados ki aunty ki ek ladki thi Mina jo meri umar ki hi thi. Wah meri bahut fast friend thi. Wah boli ki jab tak tumhare mummy papa nahi aate tum khana hamare ghar hi khana.

Main khana aur samay wahi bitati par raat main soti Mina ke saath apne ghar par hi thi. Do din ho gaye aur holi aa gayi. Subah hote hi Mina ne apne ghar chalne ko kaha tu main rang se bachne ki liye bahan karne lagi. Mina boli,

"main janti hoon tum rang se bachna chahti ho. Nahi aayi tu main khud aa jaongi."
"kasam se aaongi."

Main jaan gayi ki wah rang lagaye bagair nahi manegi. Maine socha ki ghar par hi rahongi jab ayegi tu chali jaongi. Holi ke liye purane kapde nikal liye the. Purane kapde chhote the. Skirt aur shirt pahan liya. Shirt chhoti thi isliye bahut kasi thi jisse dono choochiyon mushkil se samhal rahi thi. Bahar holi ka shorgul mach raha tha. Chaddi bhi purani thi aur kasi thi. Kase kapde pahanne main jo maza aa raha tha wah kabhi shalwar sameez main nahi aaya. Chalne main kase kapde choochiyon aur choot se ragad kar maza de rahe the isliye main idhar udhar chal fir rahi thi. Main abhi Mina ke ghar jane ko soch hi rahi thi ki Mina darwaze ko zor zor se khatkhatate huwe chillayi,

"ari Sunita ki bachchi jaldi se darwaza khol." Maine jaldi se darwaza khola tu Mina ke peechhe hi uska bada bhai Ramesh bhi andar ghus aaya. Uski hatheli main rang tha. Andar aate hi Ramesh ne kaha,

"aaj holi hai bachogi nahi, lagaunga zaroor." Mina bachne ke liye mere peechhe aayi aur boli,

"dekho bhayya yah theek nahi hai." Meri samajh main nahi aaya ki kya karoon. Ramesh mere aage aaya tu aisa laga ki Mina ke bajay mere hi na laga de. Main dari tu wah hatheli ragadta bola,

"bina lagaye jaunga nahi Mina."

"haye ram bhayya tumko ladkiyon se rang khelte sharam nahi aati."

"holi hai bura na mano. Ladkiyon ko lagane main hi tu maza hai. Tum hato aage se Sunita nahi tu tumko bhi laga dunga." Main darr se kinare thi. Tabhi Ramesh ne Mina ko baanhon main bhara aur hatheli ko uske gaal par laga rang lagane laga. Mina poori tarah Ramesh ki pakad main thi. Wah boli,

"haye bhayya ab chhodo na."

"abhi kahan meri jaan abhi tu asli jagah lagaana baaki hi hai." Aur wah peechhe se chipak Mina ki dono choochiyon ko masal uski gaan ko apne lund par dabane laga.

"haye bhayya." Choochiyon dabane par Mina boli tu Ramesh meri oor dekh apni bahan ki dono choochiyon ko dabata bola,

"bura na mano holi hai." Mina ki masli ja rahi choochiyon ko dekh main apne aap kasmasa uthi. Choochiyon ko apne bhai ke haath main de Mina ki uchal kood kam ho gayi thi. Ramesh uski dono choochiyon ko kaskar dabate huwe uski gaand ko apni raano par uthata ja raha tha.

"haye bhayya frock fatt jayegi."

"fatt jane do. Nayi laa dunga." Aur apni bahen ke dono amrood dabane laga. Is tarah ki holi dekh mujhe ajib laga. Main samajh gayi ki Ramesh rang lagane ke bahane Mina ki choochiyon ka maza le raha hai.

"haye ab chhoro na." Mina ne meri oor dekhte kaha tu mujhe Mina main ek badlaaw laga. Tabhi Ramesh uski gol gol choochiyon ko dabate huwe bola.

"haye is saal holi ka maza aa raha hai. Haye Mina ab tu poora rang lagakar hi chhorunga." Aur poori choochiyon ko muthhi main daba betabi se dabane laga. Maine dekha ki Ramesh ka chehra laal ho gaya tha. Ab Mina virodh nahi kar rahi thi aur wah mere saamne hi apni bahan ko rang lagane ke bahane uski choochiyan daba raha tha. Is scene ko dekh mere mann main ajib si uljhan huyi. Meri aur Mina ki choochiyon main thoda sa fark tha. Meri Mina se zara chhoti thi. Saheli ki dabayi ja rahi choochiyon ko dekh meri choochiyan bhi gudgudane lagi aur laga ki Ramesh meri bhi rang lagane ke bahane dabayega. Mina ko wah apne badan se kaskar chipkaye tha.

"haye chhoro bhaiyya saheli kya sochegi." Mina choochiyon ko frock ke upar se dabwati meri oor dekh boli tu Ramesh usi tarah karte huwe meri oor dekhta bola,

"saheli kya kahegi. Uske paas bhi tu hain. Kahegi tu usko bhi rang laga dunga." Meri halat yah sab dekh kharab ho gayi thi. Maine socha ki kahi Ramesh apni bahan ko rang lagane ke bahane yahi chodne na lage. Samajh main nahi aa raha tha ki kya karoon. Mujhe laga ki wah apni bahan ko chodne ko taiyyar hai. Mina ke haaw bhaaw aur khamosh rahne se aisa lag raha tha ki use bhi maza mil raha hai. Main janti thi ki choochiyan dabwane aur choot chudwane se ladkiyon ko maza aata hai. Mujhe dono bhai bahan ke khel dekhne main achha laga. Mere andar bhi waasna jaagi. Tabhi Mina ne nakhre dikhate huwe kaha,

"haye bhaiyya faad doge kya?"

"kayde se lagwaogi tu nahi faadenge. Meri jaan bas ek baar dikha do." Aur Ramesh ne dono choochiyon ko dabate huwe uske chutad ko apni raan par ubhara.

"achha baba theek hai. Chhoro, lagwaungi."

"itna tadpa rahi ho jaise kewal mujhe hi ayega holi ka maza. Aaj tu bina dekhe nahi rahunga chahe tum meri shikayat kar do." Fir Mina meri oor dekh boli,

"darwaza band kar do Sunita manega nahi." Mina ki aawaz bhari ho rahi thi. Chehra bhi tamtama raha tha. Ramesh ne dekhne ki baat kar mere badan main sansani dauda di thi. Meri choot bhi chunchunane lagi thi. Tabhi Ramesh uski choochiyon ko sahlakar bola,

"band kar do aaj apni saheli ke saath meri holi man jane do." Ramesh ki baat ne mere badan ke roye gangana diye. Maine dheere se darwaza band kar diya. Jaise hi darwaza band kiya, Ramesh usko chhor aangan main chala gaya. Uske jaate hi apni sikudi huyi frock theek karti Mina mere paas aa boli,

"Sunita kisi se batana nahi. Bhaiyya manege nahi. Dekha meri choochiyon ko kaise zor zor se daba rahe the." Uska badan garam tha. Main gudgudate mann se boli,

"haye Mina tum chudwaogi kya?" Mina meri choochiyon ko dabati mere badan main current dauda boli,

"bina chode manega nahi. Kahna nahi kisi se."

"par wah tu tumhara bada bhai hai.?"

"tu kya huwa. Ham dono ek doosre se bahut pyar karte hain."

"theek hai nahi kahungi."

"haye Sunita tum kitni achhi saheli ho." Aur Mina meri dono choochiyon ko chhod muskarati huyi angdayi lene lagi. Har saan ke saath meri choochiyon aur choot ka voltage increase ho raha tha. Ramesh abhi tak aangan main hi tha. Mina ki dabayi gayi choochiyan meri choochiyon se zyada tezi se haanf rahi thi. Uski frock bahut tight thi isliye dono nipple ubhre the. Ab meri kasi chaddi aur maza de rahi thi. Main holi ki is rangeen bahar ke bare main soch hi rahi thi ki Mina muskarati huyi boli,

"Sunita tumhari wajah se aaj hamko bahut maza aayega."

"bula lo na apne bhaiyya ko."

"peshab karne gaya hoga. Dekha tha meri choochiyon ko meeste hi bhaiyya ka fanfana gaya tha. Haye bhaiyya ka bahut tagda hai. Poore 8 inch lamba lund hai bhaiyya ka." Masti se bhari Mina ne haath se apne bhai ke lund ka size banaya tu mujhe aur bhi maza aaya. Ab khula tha ki saheli apne bhai se chudwane ko bechain hai.

"haye Mina mujhe tu naam se darr lagta hai. Kaise chodte hain." Ab mere badan main bhi cheetiyan chal rahi thi.

"bada maza aata hai. Darne ki koi baat nahi fir ab tu ham log jawan ho gaye hain. Tu kahe tu bhaiyya se tere liye baat karoon. Mauka achha hai. Ghar khali hi hai. Tumhare ghar main hi bhaiyya se maza liya jayega. Janti hai ladko se zyada maza ladkiyon ko aata hai. Haye main tu dabwate hi mast ho gayi thi." Mina aisi baate karne main zara bhi nahi Sharma rahi thi. Uske munh se chudai ki baat sun meri choot dupdupane lagi. Mera mann bhi Mina ke saath uske bhai se maza lene ko karne laga. Mina ki baat sahi thi ki ghar khali hai kisi ko pata nahi chalega. Main Mina ko dil ki baat batane main Sharma rahi thi. Tabhi Mina ne apni dono choochiyon ko apne haath se dabate huwe kaha,

"apne haath se dabane main zara bhi maza nahi aata. Tum dabao tu dekhen." Maine fauran uski dono choochiyon ko frock ke oopar se pakad kar dabaya tu mujhe bahut maza aaya par saheli bura sa munh banati boli,

"chhoro Sunita maza ladke se dabwane main hi aata hai. Tumne dabwaya hai kisi se?"

"nahi Mina." Main uski choochiyon ko chhod boli tu Mina mere gaal masal boli,

"tu aaj mere saath mere bhaiyya se maza lekar dekho na. Meri umar ki hi ho. Tumhari bhi chudwane layak hogi. Haye Sunita tumhari tu khoob gori gori makhkhan si hogi. Meri tu saawli hai." Mina ki is baat se poore badan main current dauda. Mina ne mere dil ki baat kahi thi. Main Mina se har tarah se khoobsurat thi. Wah sadharan si thi par main gori aur khoobsurat. Maine socha jab Ramesh apni is bahan ko chodne ko taiyyar hai tu meri jaisi gadrayi kunwari khoobsurat laundiya ko tu wah bahut pyar se chodega.

"haye Mina mujhe darr lag raha hai."

"pagli mauka achha hain mere bhaiyya ek number ka laundiyabaz hai. Bhaiyya ke saath ham logo ko khoob maza aayega. Bhaiyya ka lund khoob tagda hai aur sabse badi baat yah hai ki aaram se tumhare ghar main maza lenge." Mina ki baat sun fudakti choot ko chikni raano ke beech daba razamand huyi tu Mina meri ek choochi pakad dabati boli,

"pahle tu hamko hi chodega. Kaho tu tumko bhi…." Main sharmati si holi ki masti main razi huyi tu wah bahar Ramesh ke paas gayi. Kuchh der baad wah Ramesh ke saath wapas aayi tu uska bhai Ramesh mere uthano ko dekhta apni chhoti bahan Mina ki bagal main haath dal uski choochiyon ko meesta bola,

"theek hai Mina ham tumhari saheli ko bhi maza denge par iski choochiyan tu abhi chhoti lag rahi hain."

Reply With Quote
  #10  
Old 13th March 2013
luklukbaby's Avatar
luklukbaby luklukbaby is offline
 
Join Date: 25th November 2011
Posts: 472
Rep Power: 6 Points: 404
luklukbaby has many secret admirersluklukbaby has many secret admirers
UL: 336.00 kb DL: 0.00 b Ratio: -
1

Reply With Quote
Reply Free Video Chat with Indian Girls


Thread Tools Search this Thread
Search this Thread:

Advanced Search

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

vB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off
Forum Jump



All times are GMT +5.5. The time now is 03:26 AM.
Page generated in 0.02144 seconds