Xossip

Go Back Xossip > Mirchi> Stories> Hindi > ये है किस्सा

Reply Free Video Chat with Indian Girls
 
Thread Tools Search this Thread
  #71  
Old 19th January 2012
sssurrey's Avatar
sssurrey sssurrey is offline
Visit my website
 
Join Date: 23rd September 2009
Location: surrey
Posts: 739
Rep Power: 13 Points: 284
sssurrey has many secret admirers
UL: 17.56 gb DL: 18.22 gb Ratio: 0.96
अब मैं उसके सामने ब्रा और पैंटी में थी। उसने मेरी टांगों को चूमा और फिर मेरी गाण्ड तक पहुँच गया। मैं उल्टी होकर लेटी थी और वो मेरे चूतडों को जोर जोर से चाट और मसल रहा था।

अब तक मेरी शर्म और डर दोनों गायब हो चुके थे और फिर जब गैर मर्द के सामने नंगी हो ही गई थी तो फिर चुदाई के पूरे मज़े क्यों नहीं लेती भला।

मैं पीछे मुड़ी और घोड़ी बन कर उसकी पैंट, जहाँ पर लण्ड था, पर अपना चेहरा और गालें रगड़ने लगी। मैंने उसकी शर्ट खोलनी शुरू कर दी थी। जैसे जैसे मैं उसकी शर्ट खोल रही थी उसकी चौड़ी और बालों से भरी छाती सामने आई।

मैं उस पर धीरे धीरे हाथ फेरने लगी और चूमने लगी। धीरे धीरे मैंने उसकी शर्ट खोल कर उतार दी। वो मेरे ऐसा करने से बहुत खुश हो रहा था। मुझे तो अच्छा लग ही रहा था। मैं मस्त होती जा रही थी।

मेरे हाथ अब उसकी पैंट तक पहुँच गए थे। मैंने उसकी पैंट खोली और नीचे सरका दी। उसका लण्ड अंडरवियर में कसा हुआ था। ऐसा लग रहा था कि जैसे अंडरवीयर फाड़ कर बाहर आ जाएगा।

मैंने उसकी पैंट उतार दी।

मैंने अपनी एक ऊँगली ऊपर से उसके अंडरवियर में घुसा दी और नीचे को खींचा। इससे उसकी झांटों वाली जगह, जो उसने बिलकुल साफ़ की हुई थी दिखाई देने लगी। मैंने अपना पुरा हाथ अंदर डाल कर अंडरवियर को नीचे खींचा। उसका 7 इंच का लण्ड मेरी उंगलियों को छूते हुए उछल कर बाहर आ गया और सीधा मेरे मुँह के सामने हिलने लगा।

इतना बड़ा लण्ड अचानक मेरे मुँह के सामने ऐसे आया कि मैं एक बार तो डर गई। उसका बड़ा सा और लंबा सा लण्ड मुझे बहुत प्यारा लग रहा था और वो मेरी प्यास भी तो बुझाने वाला था।

मेरे होंठ उसकी तरफ बढ़ने लगे और मैंने उसके सुपारे को चूम लिया। मेरे होंठो पर गर्म-गर्म एहसास हुआ जिसे मैं और ज्यादा महसूस करना चाहती थी।

तभी उस बूढ़े ने भी मेरे बालों को पकड़ लिया और मेरा सर अपने लण्ड की तरफ दबाने लगा।

मैंने मुँह खोला और उसका लण्ड मेरे मुँह में समाने लगा। उसका लण्ड मैं पूरा अपने मुँह में नहीं घुसा सकी मगर जो बाहर था उसको मैंने एक हाथ से पकड़ लिया और मसलने लगी।

बुढा भी मेरे सर को अपने लण्ड पर दबा रहा था और अपनी गाण्ड हिला हिला कर मेरे मुँह में अपना लण्ड घुसेड़ने की कोशिश कर रहा था।

थोड़ी ही देर के बाद उसके धक्कों ने जोर पकड़ लिया और उसका लण्ड मेरे गले तक उतरने लगा। मेरी तो हालत बहुत बुरी हो रही थी कि अचानक मेरे मुँह में जैसे बाढ़ आ गई हो। मेरे मुँह में एक स्वादिष्ट पदार्थ घुल गया, तब मुझे समझ में आया कि बुड्ढा झड़ गया है।

तभी उसके धक्के भी रुक गए और लण्ड भी ढीला होने लगा और मुँह से बाहर आ गया।

उसका माल इतना ज्यादा था कि मेरे मुँह से निकल कर गर्दन तक बह रहा था। कुछ तो मेरे गले से अंदर चला गया था और बहुत सारा मेरे वक्ष तक बह कर आ गया। मैं बेसुध होकर पीछे की तरफ लेट गई। और वो भी एक तरफ लेट गया। इस बीच हम थोड़ी रोमांटिक बातें करते रहे।

थोड़ी देर के बाड़ वो फिर उठा और मेरे दोनों तरफ हाथ रख कर मेरे ऊपर झुक गया। फिर उसन मुझे अपने ऊपर कर लिया और मेरी ब्रा की हुक खोल दी। मेरे दोनों कबूतर आजाद होते ही उसकी छाती पर जा गिरे। उसने भी बिना देर किये दोनों कबूतर अपने हाथो में थाम लिए और बारी बारी दोनों को मुँह में डाल कर चूसने लगा।

वो मेरे मम्मों को बड़ी बुरी तरह से चूस रहा था। मेरी तो जान निकली जा रही थी। मेरे मम्मों का रसपान करने के बाद वो उठा और मेरी टांगों की ओर बैठ गया। उसने मेरी पैंटी को पकड़ कर नीचे खींच दिया और दोनों हाथों से मेरी टाँगे फ़ैला कर खोल दी।

वो मेरी जांघों को चूमने लगा और फिर अपनी जीभ मेरी चूत पर रख दी। मेरे बदन में जैसे बिजली दौड़ने लगी। मैंने उसका सर अपनी दोनों जांघों के बीच में दबा लिया और उसके सर को अपने हाथों से पकड़ लिया।उसका लण्ड मेरे पैरों के साथ छू रहा था। मुझे पता चल गया कि उसका लण्ड फिर से तैयार हैं और सख्त हो चुका हैं।

मैंने बूढ़े की बांह पकड़ी और ऊपर की और खींचते हुए कहा- मेरे ऊपर आ जाओ राजा..

वो भी समझ गया कि अब मेरी फुद्दी लण्ड लेना चाहती है।

Contd....

Reply With Quote
  #72  
Old 19th January 2012
sssurrey's Avatar
sssurrey sssurrey is offline
Visit my website
 
Join Date: 23rd September 2009
Location: surrey
Posts: 739
Rep Power: 13 Points: 284
sssurrey has many secret admirers
UL: 17.56 gb DL: 18.22 gb Ratio: 0.96
वो मेरे ऊपर आ गया और अपना लण्ड मेरी चूत पर रख दिया। मैंने हाथ में पकड़ कर उसका लण्ड अपनी चूत के मुँह पर टिकाया और अंदर को खींचा। उसने भी एक धक्का मारा और उसका लण्ड मेरी चूत में घुस गया।

मेरे मुँह से आह निकल गई। मेरी चूत में मीठा सा दर्द होने लगा। अपने पति के इन्तजार में इस दर्द के लिए मैं बहुत तड़पी थी।

उसने मेरे होंठ अपने होंठो में लिए और एक और धक्का मारा। उसका सारा लण्ड मेरी चूत में उतर चुका था। मेरा दर्द बढ़ गया था। मैंने उसकी गाण्ड को जोर से दबा लिया था कि वो अभी और धक्के ना मारे।

जब मेरा दर्द कम हो गया तो मैं अपनी गाण्ड हिलाने लगी।

वो भी लण्ड को धीरे धीरे से अंदर-बाहर करने लगा।

कमरे में मेरी और उसकी सीत्कारें और आहों की आवाज़ गूंज रही थी। वो मुझे बेदर्दी से पेल रहा था और मैं भी उसके धक्कों का जवाब अपनी गाण्ड उठा-उठा कर दे रही थी।

फिर उसने मुझे घोड़ी बनने के लिए कहा।

मैंने घोड़ी बन कर अपना सर नीचे झुका लिया। उसने मेरी चूत में अपना लण्ड डाला। मुझे दर्द हो रहा था मगर मैं सह गई। दर्द कम होते ही फिर से धक्के जोर जोर से चालू हो गए। मैं तो पहले ही झड़ चुकी थी, अब वो भी झड़ने वाला था। उसने धक्के तेज कर दिए।

अब तो मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे यह बुड्ढा आज मेरी चूत फाड़ देगा। फिर एक सैलाब आया और उसका सारा माल मेरी चूत में बह गया।

वो वैसे ही मेरे ऊपर गिर गया। मैं भी नीचे उल्टी ही लेट गई और वो मेरे ऊपर लेट गया।

मेरी चूत में से उसका माल निकल रहा था। फिर उसने मुझे सीधा किया और मेरी चूत चाट चाट कर साफ़ कर दी।

हम दोनों थक चुके थे और भूख भी लग चुकी थी। उसने किसी होटल में फोन किया और खाना घर पर ही मंगवा लिया।

मैंने अपने स्तन और चूत को कपड़े से साफ़ किए और अपनी ब्रा और पैंटी पहनने लगी। उसने मुझे रुकने का इशारा किया और एक गिफ्टपैक मेरे हाथ में थमा दिया।

मैंने खोल कर देखा तो उसमें बहुत ही सुन्दर ब्रा और पैंटी थी जो वो मेरे लिए अमेरिका से लाया था। फिर मैंने वही ब्रा और पेंटी पहनी और अपने कपड़े पहन लिए।

तभी बेल बजी, वो बाहर गया और खाना लेकर अंदर आ गया।

हमने साथ बैठ कर खाना खाया।

उसने मुझे कहा- चलो अब तुम्हें शॉपिंग करवाता हूँ।

वो मुझे मार्केट ले गया। पहले तो मैंने शादी के लिए शॉपिंग की, जिसका बिल भी उसी बूढ़े ने दिया। उसने मुझे भी एक बेहद सुन्दर और कीमती साड़ी लेकर दी और बोला- जब अगली बार मिलने आओगी तो यही साड़ी पहन कर आना क्यूंकि उसको तेरी तंग पजामी उतारने में बहुत मुश्किल हुई आज।

फिर वो मुझे बस स्टैंड तक छोड़ गया और मैं बस में बैठ कर वापिस अपने गाँव अपने घर आ गई।

End

Reply With Quote
  #73  
Old 19th January 2012
sssurrey's Avatar
sssurrey sssurrey is offline
Visit my website
 
Join Date: 23rd September 2009
Location: surrey
Posts: 739
Rep Power: 13 Points: 284
sssurrey has many secret admirers
UL: 17.56 gb DL: 18.22 gb Ratio: 0.96
ढेरों कहानियां इकठ्ठा डाउनलोड करें
नीचे दबाएँ


h-stories21.rar - 4.25 MB

h-stories22.rar - 4.04 MB

h-stories23.rar - 3.73 MB

h-stories24.rar - 4.01 MB

h-stories25.rar - 4.41 MB

Reply With Quote
  #74  
Old 19th January 2012
ladieslover1234567 ladieslover1234567 is offline
Custom title
 
Join Date: 19th March 2011
Posts: 1,045
Rep Power: 9 Points: 629
ladieslover1234567 has received several accoladesladieslover1234567 has received several accoladesladieslover1234567 has received several accolades
UL: 0.00 b DL: 61.99 mb Ratio: 0.00
nice...continue..

Reply With Quote
  #75  
Old 20th January 2012
sssurrey's Avatar
sssurrey sssurrey is offline
Visit my website
 
Join Date: 23rd September 2009
Location: surrey
Posts: 739
Rep Power: 13 Points: 284
sssurrey has many secret admirers
UL: 17.56 gb DL: 18.22 gb Ratio: 0.96

Reply With Quote
  #76  
Old 22nd January 2012
sssurrey's Avatar
sssurrey sssurrey is offline
Visit my website
 
Join Date: 23rd September 2009
Location: surrey
Posts: 739
Rep Power: 13 Points: 284
sssurrey has many secret admirers
UL: 17.56 gb DL: 18.22 gb Ratio: 0.96
बिल्लू से चुदवा दो ना

मेरी पत्नी माधुरी बेहद खूबसूरत और सेक्सी है।

चूंकि मैंने लव-मैरिज की थी तो हम दोनों घर वालों से अलग अकेले रहते हैं। मैं एक प्राइवेट कम्पनी में सेल का काम करता हूँ।

हम दोनों बहुत खुश हैं अपनी जिंदगी से। मेरी पत्नी और मुझ में सेक्स की भूख कूट-कूट कर भरी है और सेक्स करते समय हम खूब गन्दी बातें भी करतें है और खूब गालियाँ भी निकालते हैं।

ऐसे ही एक दिन मैंने एक ब्लू फिल्म चलाई थी और मैं माधुरी को अपने लौड़े पर बिठा कर फिल्म दिखा रहा था। फिल्म में दो काले आदमी अपने मोटे मोटे लौड़ों से एक लड़की को चोद रहे थे।

मैंने कहा- माधुरी, अगर तू इस लड़की की जगह होती तो कैसा लगता तुझे?

माधुरी के मुंह से सिसकारी निकल गई और वो मेरे लौड़े पर कूदने लगी।

मैंने फिर कहा- माधुरी, तूने जवाब नहीं दिया?

माधुरी मुझे देख कर मुस्कुरा रही थी, माधुरी ने कहा- बहन के लौड़े ! मेरी किस्मत में सिर्फ तेरा ही लौड़ा लिखा है ! और वो मुझे मिल रहा है ! ऐसे दो काले नाग मेरी किस्मत में कहाँ?

मुझे माधुरी की बातों में मजा आने लगा, माधुरी को भी सेक्स का नशा होने लगा।

मैंने कहा- डार्लिंग, तू फ़िक्र मत कर ! मैं तुझे एक बढ़िया काला लौड़ा दिलवा दूंगा ! तू सिर्फ बता दे मुझे कि किससे चुदना है तुझे?

माधुरी ने कहा- मुझे क्या पता? तू ही चुदवा दे किसी मर्द से !

मैंने कहा- मेरा वो दोस्त है न बिल्लू ! वो कैसा रहेगा?

वैसे तो बिल्लू का असली नाम विनोद है पर सभी उसे बिल्लू ही कहते हैं।

माधुरी की आँखें ख़ुशी से चमक उठी क्योंकि बिल्लू एक सेक्सी आदमी था पूरे छह फ़ुट का और मुझ से लगभग दो गुना होगा उसका शरीर ! और उसका लौड़ा तो कयामत था, एक-दो बार तो मैंने भी उसका लौड़ा चूसा था।

माधुरी ने कहा- सच में? प्लीज मुझे बिल्लू से चुदवा दो ना !

Reply With Quote
  #77  
Old 22nd January 2012
sssurrey's Avatar
sssurrey sssurrey is offline
Visit my website
 
Join Date: 23rd September 2009
Location: surrey
Posts: 739
Rep Power: 13 Points: 284
sssurrey has many secret admirers
UL: 17.56 gb DL: 18.22 gb Ratio: 0.96
मैंने भी एक शर्त रखी- तुम खुद बिल्लू को अपने जाल में फंसाना और इसके लिए मैं तुम्हें पूरी छूट दूँगा !

अगले ही दिन मैंने बिल्लू को घर पर बुला लिया- आज पेग-शेग लगायेंगे !

मैंने रास्ते में ही बिल्लू को कह दिया था कि माधुरी का तुझसे चुदने का बड़ा मन है।

बिल्लू तो वैसे भी कब से माधुरी को देख कर मुठ मारता था इसलिए वो तुरन्त राजी हो गया। पर मैंने उसे पहल करने से मना कर दिया था।

शाम को जैसे ही मैं और बिल्लू घर पहुंचे तो माधुरी के तो जैसे पैरों में घुंघरू बंध गये हों !

एक दूसरे को हेलो बोलने क बाद हम ड्राइंग रूम में बैठ कर बातें करने लगे।

अब आगे की कहानी, हम तीनों की जुबानी :

कमरे में हम तीनों थे मगर माधुरी और बिल्लू एक दूसरे को ऐसे देख रहे थे जैसे वहाँ सिर्फ वो दोनों ही हों।

बिल्लू: अरे माधुरी, हमें कुछ खिला-पिला भी दो !

माधुरी : हाँ हाँ ! बोलो, क्या लोगे चाय या कॉफी?

बिल्लू : अरे नहीं ! आज तो दारू पिला दो !

माधुरी : अभी लाई !

माधुरी कुछ पकौड़े, नमकीन तीन गिलास और शराब की बोतल जो मैं पहले ही ले आया था, ले आई।

दो दो पेग हम तीनों ने लिए और मस्त मूड सेट हो गया।

माधुरी और बिल्लू एक दूसरे को काफी देर से देख रहे थे, मुझे पता था कि आज मेरी घरवाली रांड बन कर चुदने वाली है, मेरा लौड़ा मस्त हो रहा था और शायद बिल्लू का भी।

तभी अचानक बिजली चली गई, कमरे में अँधेरा हो गया।

कुछ देर तक खामोशी के बाद मुझे कुछ आवाज सुनाई दी जैसे कोई पानी पी रहा हो। दो तीन मिनट बाद बिजली आई तो मेरी आँखों के सामने का नजारा बड़ा सेक्सी था :

माधुरी बिल्कुल नंगी थी और बिल्लू सिर्फ कच्छे में !

दोनों नीचे लेटे हुए थे और एक दूसरे को चूम रहे थे।

मुझे देख कर माधुरी ने उठने का नाटक किया तो बिल्लू ने उसे अपनी तरफ खींचते हुए कहा- अरे इस गांडू से क्यों डरती है? आ जा मेरी रंडी ! यह बहन का लौड़ा तो खुद मेरा ही लौड़ा चूसता था। माधुरी ने कहा- क्यों रणदीप? साले ! कमीने ! मादरचोद ! इतना स्वादिष्ट लण्ड सिर्फ अकेले ही पी गया बहन के लौड़े? अब तो मैं बिल्लू से और तुझसे जी भर के चुदूँगी ! क्यों बिल्लू?

Reply With Quote
  #78  
Old 22nd January 2012
sssurrey's Avatar
sssurrey sssurrey is offline
Visit my website
 
Join Date: 23rd September 2009
Location: surrey
Posts: 739
Rep Power: 13 Points: 284
sssurrey has many secret admirers
UL: 17.56 gb DL: 18.22 gb Ratio: 0.96
बिल्लू- वाह मेरी रंडी तू तो बड़ी सेक्सी है !

बिल्लू ने अपना लण्ड कच्छे से निकाला तो माधुरी देखती ही रह गई।

दस इंच का मस्त काला लोला !

माधुरी- क्या मस्त लौड़ा है तेरा ! ए मेरे बिल्लू !

बिल्लू- तेरा ही है आज से यह कला नाग !

मैं भी अब तक नंगा हो चुका था और माधुरी के पीछे से उसे चूम रहा था और आगे से बिल्लू उसे मसल रहा था।

तभी माधुरी नीचे बैठ कर बिल्लू का लौड़ा चूसने लगी, बिल्लू ने उसे उठा कर सोफे पर लिटा लिया और उसके होंट पीने लागा।

माधुरी बिल्लू के सामने मस्त हो गई थी।

बिल्लू- बहनचोद रणदीप, तू मेरा लौड़ा चूस ! तब तक मैं माधुरी के होंट पी लूँ !

मैं बिल्लू का लौड़ा चूसने लगा मगर माधुरी पूरी रंडी बन चुकी थी और उसने बिल्लू को बड़े सेक्सी अंदाज में कहा- मेरे लौड़े राजा ! तेरे लौड़े को सिर्फ मैं चुसूँगी ! हटा इस मादरचोद को अपने लौड़े से !

बिल्लू ने मुझे हटा कर लौड़ा माधुरी के मुंह में ठूंस दिया और मैं माधुरी की फुद्दी चाटने लगा मगर माधुरी ने मुझे वहाँ से हटा दिया और कहा- इस फुद्दी को अब सिर्फ बिल्लू जी ही चाटेंगे !

और अपनी फुद्दी बिल्लू के मुंह पर रख दी।

अब मुझे माधुरी ने अपनी ब्लू फिल्म बनाने को कहा और मैं अपने हैन्डीकैम से उन दोनों की फिल्म बनाने लगा।

बिल्लू पूरे जोश से माधुरी की फुद्दी चाट रहा था तो माधुरी जल्दी ही झर गई और सोफे पर सीधी लेट गई।

बिल्लू ने अपने दस इंच के लौड़े को तीन झटको में माधुरी की फुद्दी में पूरा उतार दिया।

धीरे-धीरे गति बढ़ने लगी, माधुरी अपनी आँखें बंद करके चुद रही थी।बिल्लू ने उसे पूरी रात में पाञ्च बार ठोका।

माधुरी ने बिल्लू को कुछ दिन के लिए घर पर ही रख लिया।

एक दिन बिल्लू अपने भाई वीरू को भी ले आया देखने में बिल्कुल बिल्लू जैसा ही था और तब माधुरी अवस्था बदल बदल कर दोनों से चुदी।

माधुरी ने मेरा भी काम बना दिया है। माधुरी ने एक कामवाली को रख लिया है जो रोज मुझसे चुदती है।

End

Last edited by sssurrey : 22nd January 2012 at 12:03 PM.

Reply With Quote
  #79  
Old 22nd January 2012
sssurrey's Avatar
sssurrey sssurrey is offline
Visit my website
 
Join Date: 23rd September 2009
Location: surrey
Posts: 739
Rep Power: 13 Points: 284
sssurrey has many secret admirers
UL: 17.56 gb DL: 18.22 gb Ratio: 0.96
कहानियों की अगली खेप

h-stories30.rar - 4.31 MB

Reply With Quote
  #80  
Old 23rd January 2012
sssurrey's Avatar
sssurrey sssurrey is offline
Visit my website
 
Join Date: 23rd September 2009
Location: surrey
Posts: 739
Rep Power: 13 Points: 284
sssurrey has many secret admirers
UL: 17.56 gb DL: 18.22 gb Ratio: 0.96
कहानियों की अगली खेप

h-stories31.rar - 4.40 MB

Reply With Quote
Reply Free Video Chat with Indian Girls


Thread Tools Search this Thread
Search this Thread:

Advanced Search

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

vB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off
Forum Jump



All times are GMT +5.5. The time now is 05:26 AM.
Page generated in 0.01803 seconds